संवाद सहयोगी, हरिद्वार: आर्य समाज के स्वामी यज्ञमुनि ने कहा कि स्वामी श्रद्धानंद आर्य समाज के लिए ही नहीं, अपितु पूरे विश्व के लिए प्रेरणादायी हैं। उन्होंने राष्ट्र के लिए अपना सर्वस्व न्यौछावर कर दिया था। उनके आदर्शों पर चलकर भारत को फिर से विश्व गुरु बनाना होगा।

स्वामी श्रद्धानंद के जन्मोत्सव पर आर्य समाज कनखल व आर्य वीर दल की ओर से रोड धर्मशाला में हुए कार्यक्रम में मुख्य अतिथि स्वामी यज्ञमुनि ने कहा कि स्वामी श्रद्धानंद उन महापुरुषों में से एक थे, जिन्होंने राष्ट्र के निर्माण लिए अपनी धन संपदा, अपना घर, अपना परिवार और तो और स्वयं को भी इस राष्ट्र के लिए दान कर दिया। उत्तराखंड आर्य प्रतिनिधि सभा के प्रधान गोविद भंडारी ने कहा कि श्रद्धानंद का विचार था कि अज्ञान, स्वार्थ व प्रलोभन के कारण धर्मांतरण कर बिछुड़े स्वजनों की शुद्धि करना देश को मजबूत करने के लिए परम आवश्यक है। इसीलिए, उन्होंने भारतीय हिदू शुद्धि सभा की स्थापना कर दो लाख से अधिक लोगों को शुद्ध किया। इस मौके पर प्राचीन अवधूत मंडल आश्रम के महंत स्वामी रुपेंद्र महाराज, आरएसएस के जिला संघचालक रोहिताश कुंवर, जिला उप आर्य प्रतिनिधि सभा हरिद्वार के प्रधान मास्टर यशपाल, मंत्री अरुण आर्य, जिला उप आर्य प्रतिनिधि सभा देहरादून के प्रदान शत्रुघ्न आर्य आदि मौजूद रहे। इससे पूर्व गुरुकुल कांगड़ी विवि के दयानंद स्टेडियम से भाजपा विधायक स्वामी यतीश्वरानंद, कुलपति प्रोफेसर रूपकिशोर शास्त्री, कुलसचिव प्रोफेसर दिनेश भट्ट ने शोभायात्रा का शुभारंभ किया। जो सिंहद्वार, शंकरआश्रम, रानीपुरमोड़ होते हुए रोड धर्मशाला में पहुंची।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस