भगवानपुर, जेएनएन। हरिद्वार जिले के भगवानपुर में संदिग्ध बुखार से मौत का सिलसिला जारी है। गुरुवार से लेकर शुक्रवार की शाम तक दो और लोगों की मौत हो गई है। इसके साथ ही तहसील क्षेत्र में मरने वालों की संख्या का आंकड़ा 30 तक पहुंच गई है। 

भगवानपुर तहसील क्षेत्र के सिकंदरपुर भैंसवाल गांव निवासी तंजेब अली उम्र 45 साल को तीन दिन से बुखार आ रहा था। दो दिन से उसका उपचार रुड़की के एक अस्पताल में चल रहा था। गुरुवार की रात को तबीयत बिगडऩे पर उसे मेरठ के लिए रेफर कर दिया। बताया जाता है कि रास्ते में उसको खून की उल्टी हुई। इसके बाद उसने दम तोड़ दिया। परिजन शव को घर पर ले आए। इसके अलावा खेलपुर गांव निवासी सरफराज(26 वर्ष) चार दिन से बुखार से पीड़ित था। उसका कस्बे के ही एक चिकित्सक के यहां उपचार चल रहा था। 

तबीयत बिगड़ने पर उसे देहरादून के अस्पताल में रेफर किया गया। देहरादून में उसकी उपचार के दौरान मौत हो गई। सूचना मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की टीम भी हरकत में आई। मक्खनपुर स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के प्रभारी डॉ. विक्रांत सिरोही ने कहा कि दोनों मामलों की जांच की जा रही है। बताते चले कि अब तक भगवानपुर क्षेत्र में 30 मौत हो चुकी है। सबसे अधिक मौत छापुर और सिकंदरपुर भैंसवाल गांव में हुई है। ग्रामीण मौत की वजह डेंगू बुखार बता रहे हैं, जबकि स्वास्थ्य विभाग इससे इनकार कर रहा है। स्वास्थ्य विभाग का कहना है कि कुछ मौत सामान्य है जबकि कुछ मौत की वजह बुखार न होकर दूसरी बीमारियां है।

डेंगू का प्रकोप जारी 

रुड़की और आसपास के क्षेत्रों में डेंगू और बुखार का प्रकोप जारी है। शुक्रवार को भी सिविल अस्पताल में डेंगू संदिग्ध और बुखार से पीड़ित मरीज काफी संख्या में पहुंचे। 20 मरीजों में डेंगू के लक्षण पाए जाने पर उनका खून का सैंपल लेकर रैपिड जांच की गई, जिनमें से दस मरीजों की जांच पॉजीटिव आई। 

यह भी पढ़ें: नीम हकीम खतरा-ए-जान, डेंगू नहीं फैली अफवाह Dehradun News

शहर के सरकारी और निजी अस्पतालों में पिछले काफी दिनों से डेंगू संदिग्ध और वायरल से पीड़ित मरीजों की लंबी-लंबी कतार देखने को मिल रही है। शुक्रवार को भी सिविल अस्पताल के रजिस्ट्रेशन काउंटर, ओपीडी और खून के सैंपल लेने वाले कक्ष के बाहर मरीजों की लाइन लगी हुई नजर आई। सिविल अस्पताल में शुक्रवार को बुखार से पीड़ित 20 मरीजों में डेंगू के लक्षण पाए गए। इसके बाद इन मरीजों के खून का सैंपल लेकर उनकी रैपिड जांच की गई। इनमें से दस मरीजों की रैपीड जांच पॉजीटिव आई है। इन सभी मरीजों के सैंपल की एलाइजा जांच के लिए हरिद्वार भेजा जाएगा। इसके बाद ही यह पुष्टि हो सकेगी कि इन मरीजों को डेंगू है या नहीं। 

यह भी पढ़ें: दून में 54 और मरीजों में डेंगू की पुष्टि, हरिद्वार में बुखार से एक की मौत

वहीं, अस्पताल के डेंगू और अन्य वार्ड में डेंगू के 12 मरीज भर्ती हैं। इसके अलावा शहर के निजी अस्पतालों में भी वायरल से पीडि़त मरीज उपचार के लिए काफी संख्या में पहुंचे। सिविल अस्पताल के सीएमएस डा. संजय कंसल के अनुसार एक सप्ताह बाद डेंगू और वायरल के मरीजों की संख्या में कमी आने की संभावना है। शहर और आसपास के क्षेत्रों में इसने विकराल रूप ले रखा है। डेंगू और संदिग्ध बुखार से अब तक 33 लोगों की जान जा चुकी है। जबकि प्रतिदिन अस्पतालों में बुखार और डेंगू से पीड़ित मरीज काफी संख्या में पहुंच रहे हैं।  

यह भी पढ़ें: स्वास्थ्य विभाग की टीम ने किया दौरा, बुखार पीड़ित मिले 12 लोग Dehradun News

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप