जागरण संवाददाता, हरिद्वार: श्रीपंच दशनाम जूना अखाड़े के ब्रह्मालीन सभापति श्रीमहंत परमानन्द सरस्वती के निर्वाण दिवस पर बुधवार को जूना अखाड़ा हरिद्वार में श्रद्धांजलि कार्यक्रम आयोजित किया गया। जिसमें उनका भावपूर्ण स्मरण अखाड़े की उन्नति व प्रगति के लिए किए गए कार्यो की सराहना की गई।

श्रीमहंत परमानंद सरस्वती का 12 दिसंबर 2006 को इलाहाबाद में आयोजित अ‌र्द्धकुंभ के दौरान ह्रदयघात से निधन हो गया था। उनकी समाधि हरिद्वार में भूपतवाला स्थित परमानंद धाम में है। बुधवार को निर्वाण दिवस पर जूना अखाड़े के सचिव श्रीमहंत देवानंद सरस्वती के संयोजन में उनकी प्रतिमा पर पुष्पाजंलि अर्पित की गई। मायादेवी प्रांगण में श्रद्वांजलि सभा आयोजित की गई। जिसमें राष्ट्रीय सभापति श्रीमहंत भागवतपुरी की अध्यक्षता व सचिव श्रीमहंत देवानंद सरस्वती के संचालन में साधु समाज, संत समिति, श्रीरामानंद वैष्णव मंडल के संतो, महंतो ने उन्हें भावमीनी श्रद्धांजलि दी। सभा में कोठारी महंत मनोहरपुरी, थानापति महंत रणधीर गिरी, महंत रामगिरि, महंत विनोद गिरी, महंत पूरब गिरी, महंत धीरेन्द्रपुरी, महंत रघुवीर दास, विष्णुदास, महंत प्रेमदास, महंत जगदीशानंद, महंत महश्वेरानंद, सतपाल ब्रह्मचारी, महंत शिवशंकर गिरि आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप