जागरण संवाददाता, हरिद्वार: जिलाधिकारी विनय शंकर पांडे ने बुधवार को मुख्य डाकघर के समीप प्रीपेड आटो और ई-रिक्शा व्यवस्था की शुरुआत करते हुए कहा कि इससे अपर रोड क्षेत्र में यातायात नियंत्रण में मदद मिलेगी। उन्होंने नगर निगम की इस पहल की सराहना की। जिलाधिकारी ने कहा कि ट्रैफिक व्यवस्था में सुधार के लिए नगर आयुक्त दयानंद सरस्वती के साथ विचार-विमर्श किया जाएगा। कहा कि जल्द जिलास्तरीय सड़क सुरक्षा समिति की बैठक आयोजित की जाएगी, जिसमें समिति के सभी सदस्य, संबंधित विभाग प्रतिभाग करेंगे। इसमें जनप्रतिनिधियों और वाहन एसोसिएशन के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया जाएगा।

जिलाधिकारी विनय शंकर पांडेय ने कहा कि बैठक में आम सहमति से प्रत्येक रूट पर चलने वाले आटो, ई-रिक्शा आदि की संख्या निर्धारित की जाएगी। प्रत्येक रूट पर चलने वाले ऑटो रिक्शा आदि का रूट के हिसाब से कलर भी निर्धारित किया जाएगा, जिससे वाहन अपने निर्धारित रूट पर ही चलें। बताया कि उन्होंने पूरे शहर की ट्रैफिक व्यवस्था का सर्वे कराया है। 28 ट्रैफिक लाइट की आवश्यकता है, जबकि वर्तमान में सिर्फ चार लाइट ही हैं। जल्द ट्रैफिक लाइटें लगवाई जाएंगी और ट्रैफिक को आटोमेटेड तरीके से कंट्रोल किया जाएगा। विभिन्न स्थानों पर कैमरे भी लगाए जाएंगे। ट्रैफिक नियम तोड़ने वालों को रोका नहीं जाएगा, बल्कि सीधे चालान कर उनके घर प्रेषित किया जाएगा। दावा किया कि एक से डेढ़ माह के भीतर यह व्यवस्था लागू कर दी जाएगी। कहा कि हरिद्वार अंतर्राष्ट्रीय स्तर का शहर है, इसी अनुरूप इसकी गरिमा बनी रहनी चाहिए। स्थानीय और बाहर से आने वाले यात्रियों को ट्रैफिक व्यवस्था संबंधी किसी प्रकार की दिक्कत न हो, इसके अनुरूप कार्ययोजना बनाई जा रही है। बैठक में महापौर अनीता शर्मा, नगर आयुक्त दयानंद सरस्वती, सहायक नगर आयुक्त महेंद्र यादव, पार्षद विनीत जौली, अनिरुद्ध भाटी, व्यापारी नेता संजय चोपड़ा, संजीव नैयर, सचिन झा, विशाल गोस्वामी आदि उपस्थित रहे।

Edited By: Jagran