हरिद्वार, जेएनएन। शनिवार रात में पहाड़ों पर हुई तेज बारिश के चलते रो नदी पर बना रपटा बह गया। इससे रपटे से चौपाहिया वाहनों की आवाजाही तो पूरी तरह से बंद हो ही गई। वहीं, दुपहिया वाहनों को भी बामुश्किल यहां से गुजारना पड़ रहा है। उधर, विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जल्द ही क्षतिग्रस्त हुए रपटे को ठीक करा दिया जाएगा। 

पथरी क्षेत्र के गांव एक्कड कला गांव के निकट से जा रही रो नदी पर बने रपटे से सुभाषगढ़, सेठपुर, बुक्कनपुर, अलीपुर, सुकराता, पथरी, फेरूपुर, जट बहादरपुर, अंबूवाला, पुरुषोत्तमनगर, धनपुरा, रानीमाजरा आदि गांव के हजारों ग्रामीणों का रोजाना आना-जाना होता है, लेकिन शनिवार रात बरसात में आये तेज पानी के कारण टूटकर बहने से ग्रामीणों का आवागमन बाधित हो गया है। दुपहिया वाहन चालक और पैदल ग्रामीणों को भी टूटे रपटे से गुजरने में भारी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। वहीं, चौपहिया वाहन चालकों को अब हरिद्वार और लक्सर आदि क्षेत्रों में आने-जाने के लिए अन्य मार्गों का सहारा लेना पड़ रहा है। जिसके कारण उनको कई किलोमीटर का अतिरिक्त चक्कर लगाना पड़ रहा है।

यह भी पढ़ें: उत्‍तराखंड के हस्तशिल्प व हथकरघा उद्योग को पटरी पर लाना चुनौती

उधर, एक्कड़ के राजेंद्र, मुनसब, असलम, उस्मान आदि ग्रामीणों का आरोप है कि लोक निर्माण विभाग ने रपटे की मरम्मत में लापरवाई बरती है। कहना है कि वह पिछले तीन साल से रपटे की जगह पुल बनाने की मांग कर रहे हैं, लेकिन उनकी कोई सुनवाई नहीं हो रही है, पर पुल का निर्माण न होने से हर साल रपटे के टूटने से उन्हें पापड़ झेलने पड़ते हैं। लोक निर्माण विभाग के सहायक अभियंता केसरवानी ने बताया कि पहाड़ पर हुई रात में तेज बारिश के कारण पानी के तेज बहाव में रपटे का कटाव हो गया है। रपटे की मरम्मत का कार्य शुरू करा दिया गया है। जल्द ही ठीक कराकर यातायात भी सुचारू करा दिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: पर्वतीय और मैदानी क्षेत्रों में रुक-रुक कर हो रही बारिश से उफान पर नदी-नाले, बाढ का खतरा बढ़ा

Posted By: Sumit Kumar

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस