जागरण संवाददाता, हरिद्वार: हरिद्वार कुंभ मेला-2021 के लिए बनाए जा रहे विभिन्न स्नानघाट के निर्माण कार्य का शनिवार को मेलाधिकारी दीपक रावत ने निरीक्षण किया। उन्होंने गोविद घाट पर हो रहे निर्माण में सरिया की सेटिग में आई त्रुटि को कार्यदायी एजेंसी को खुद के खर्चे से ठीक कराने के निर्देश दिए। बताया कि यह स्नान घाट कुंभ मेला स्नान के तहत हरकी पैड़ी पर भीड़ के दबाव को कम किए जाने के लिए निर्मित कराए जा रहे हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि औचित्यपूर्ण व गुणवत्तायुक्त कार्य पर ध्यान देने के साथ ही प्रत्येक स्तर पर पारदर्शिता बरती जाय।

बहादराबाद विकासखंड में गंगनहर के दायें तट पर 200 मीटर लंबा और 3 करोड़ 27 लाख की लागत से गोविंद घाट ,जबकि 102 मीटर लंबा और 2 करोड़ 35 लाख की लागत से रामघाट का निर्माण किया जाना है। सती घाट के समीप स्कैप चैनल कनखल के दायें किनारे पर 325 मीटर लंबा 4 करोड़ 75 लाख की लागत से स्नानघाट का निर्माण होगा। इसके अतिरिक्त प्रेमनगर आश्रम के सामने 165 मीटर लंबा 2 करोड़ की लागत से स्नानघाट का निर्माण, अजीतपुर में बालकुमारी मंदिर के सामने स्नानघाट का निर्माण, कांगड़ी घाट निर्माण कार्य प्रमुख हैं। मेलाधिकारी दीपक रावत ने बताया कि औचित्य और सुविधा के दृष्टि से गंगनहर के दोनों दिशा में घाट निर्माण, सौन्दर्यीकरण, विस्तारीकरण और नवीनीकरण को ध्यान में रखकर यह कार्य कराए जा रहें हैं। इस मौके पर अपर मेलाधिकारी हरवीर सिंह, उप मेलाधिकारी गोपाल चौहान, सिचाई विभाग के अधीशासी अभियंता पुरुषोत्तम आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप