जागरण संवाददाता, रुड़की: शिक्षानगरी में इस वर्ष जुलाई और अगस्त में मेघ जमकर बरसे। जुलाई में जहां सामान्य से 60.4 फीसद अधिक बरसात दर्ज की गई। वहीं अगस्त में 65.6 फीसद अधिक बारिश हुई। जबकि सितंबर में सामान्य बरसात 152.2 के सापेक्ष दस सितंबर तक 61.3 एमएम बारिश हो चुकी है।

गत वर्ष की तुलना में इस साल जुलाई और अगस्त में शहर में तेज बरसात हुई। आइआइटी रुड़की के जल संसाधन विकास एवं प्रबंधन विभाग में संचालित ग्रामीण कृषि मौसम सेवा परियोजना से मिली जानकारी के अनुसार इस साल जुलाई में कुल 454.6 एमएम बारिश रेकॉर्ड की गई, जबकि जुलाई में सामान्य बरसात 283.5 एमएम होती है। इसी प्रकार से अगस्त में भी सामान्य से अधिक बरसात हुई। अगस्त में सामान्य बरसात 285.8 एमएम होती है। जबकि कुल बरसात 473.2 एमएम हुई। इससे पूर्व वर्ष 2017 में जुलाई में 121.9 एमएम और अगस्त में 326.1 एमएम बारिश हुई थी। ग्रामीण कृषि मौसम सेवा परियोजना के नोडल अधिकारी डॉ. आशीष पांडेय के अनुसार इस वर्ष मानसून अच्छा रहा। इस वजह से शहर में जुलाई और अगस्त में जमकर बारिश हुई। वहीं परियोजना के तकनीकी अधिकारी डॉ. अर¨वद कुमार के अनुसार क्षेत्र भ्रमण के बाद खरीफ सीजन की मुख्य फसल धान व गन्ना की अच्छी फसल देखी गई है। हालांकि अधिक बरसात के कारण कुछ सब्जी उत्पादकों को नुकसान भी उठाना पड़ा है।

Posted By: Jagran