जागरण संवाददाता, रुड़की: कभी राजस्थान तो कभी तमिलनाडू और अब उप्र के मुरादाबाद की टीम ने रुड़की क्षेत्र में नकली दवा बनाने की तीन फैक्ट्री पकड़ी है। इसको लेकर डीएम औषधि विभाग एवं पुलिस महकमे से बेहद नाराज है। ड्रग इंस्पेक्टर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की संस्तुति करते हुए डीएम ने स्पष्टीकरण मांगा है। वहीं एसएसपी को भी इस संबंध में पत्र भेजा जा रहा है।

तीन दिन पहले मुरादाबाद औषधि विभाग की टीम ने छापा मारकर रुड़की के शिवपुरम, सैनिक कालोनी एवं रामनगर में दवा की तीन फैक्ट्री पकड़ी थी। इन फैक्ट्रियों में नामी कंपनियों की नकली दवा बनाई जा रही थी। नकली दवा की फैक्ट्री पकड़े जाने के बाद से पुलिस महकमे एवं औषधि विभाग पर सवाल उठ रहे हैं। जिलाधिकारी दीपक रावत ने कहा कि एक साल में तीन बार नकली दवा के मामले पकड़े जाना बेहद संगीन है। इसमें पुलिस और औषधि विभाग दोनों की बड़ी लापरवाही है। मामले में ड्रग इंस्पेक्टर के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई की संस्तुति की गई है। उन्होंने कहा कि बीट कांस्टेबल से लेकर दारोगा तक को इतनी जानकारी होनी चाहिए कि उनके बीट क्षेत्र में क्या हो रहा है। इस मामले में एसएसपी को भी पत्र लिखा जाएगा।

Posted By: Jagran