संवाद सहयोगी, हरिद्वार: अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी पर दर्ज किए गए मुकदमे पर संतों ने रोष जताया है। संतों ने मुकदमे को वापस न लेने पर आंदोलन की चेतावनी दी है।

अखाड़ा परिषद के पूर्व प्रवक्ता बाबा हठयोगी ने प्रेस को जारी बयान में कहा कि परिषद अध्यक्ष पर मुकदमा दर्ज होना सनातन धर्म पर हमला है। परिषद अध्यक्ष के नेतृत्व में महाकुंभ, अ‌र्द्धकुंभ जैसे विशाल मेलों का संचालन किया जाता है, लेकिन कुछ लोगों की ओर से संतों की सर्वोच्च संस्था के अध्यक्ष पर झूठा मुकदमा दर्ज कराकर संत समाज का अपमान करने का काम किया है। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों को किसी भी हालत में सहन नहीं किया जाएगा। अखिल भारतीय संत समिति के प्रदेशाध्यक्ष महंत ईश्वरदास महाराज ने कहा कि अखाड़े में रहने वाले महंत ही अपने आचरण से अखाड़े की बदनामी करा रहे हैं। भारत साधु सामाज के प्रदेशाध्यक्ष महंत देवानंद सरस्वती महाराज ने कहा कि बड़े दुख की बात है कि अखाड़े परिषद के अध्यक्ष के खिलाफ बिना जांच पड़ताल के मुकदमा दर्ज करा दिया गया है। दक्षिण काली पीठाधीश्वर महामंडलेश्वर कैलाशानंद ब्रह्मचारी महाराज ने कहा कि परिषद अध्यक्ष के खिलाफ गलत मुकदमा दर्ज किया गया है। जिसको पुलिस को वापस लेना चाहिए। मुकदमे की ¨नदा करने वालों में निर्मल अखाड़े के सचिव महंत बलवंत ¨सह, महामंडलेश्वर स्वामी रामेश्वरानंद सरस्वती, श्रीमहंत विनोद गिरी, महंत साधनानंद, स्वामी सोमेश्वरानंद आदि संत शामिल हैं।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप