हरिद्वार, जेएनएन। धर्मनगरी के संतों ने कोरोना महामारी से देश को बचाने के लिए हनुमान जयंती घरों में ही मनाने की अपील देशवासियों से की है। हनुमान जयंती बुधवार को पड़ रही है। संतों का कहना है देश इस समय कठिन दौर से गुजर रहा है, इसलिए हमें शारीरिक दूरी का पालन करते हुए घरों में हनुमान चालीसा का पाठ करें।

श्रीपंचदशनाम जूना अखाड़ा के आचार्य महामंडलेश्वर स्वामी अवधेशानंद गिरि महाराज ने कहा कि कोरोना के खिलाफ जंग को जीतने के लिए सबसे उत्तम भक्ति यही है कि हम घरों में ही प्रभु का स्मरण करें। दक्षिण काली पीठ के अधिष्ठाता महामंडलेश्वर स्वामी कैलाशानंद ब्रह्मचारी ने कहा कि प्रदेश एवं देश में कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। 

ऐसे में बेहतर यही है कि हम घरों में रहकर सकारात्मक वातावरण का निर्माण करें। श्रीमहंत रविंद्र पुरी महाराज ने कहा कि भागवत गीता में भी राष्ट्र सेवा को सबसे बड़ी पूजा बताया गया है। इसलिए हम सबकी जिम्मेदारी बनती है कि लॉकडाउन के नियमों का किसी भी दशा में उल्लंघन न करें और यदि कोई ऐसा करता है तो उसे भी रोकें।

महामंडलेश्वर हरिचेतनानंद के अनुसार सच्चा हनुमान भक्त वही है, जो राष्ट्र निर्माण में अपना योगदान देता है। वर्तमान में घरों से बाहर न निकलना ही सच्ची भक्ति है। बाबा हठयोगी और स्वामी रूपेंद्र प्रकाश ने कहा कि सब लोग अपने-अपने घरों में हनुमान चालीसा का पाठ करेंगे तो इससे वातावरण में सकारात्मक ऊर्जा का संचार होगा।

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन का पालन करते हुए लोगों ने घरों में की अष्टमी की पूजा

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021