जागरण संवाददाता, हरिद्वार: स्वच्छ विद्यालय मिशन को बढ़ावा देने के लिए आदर्श युवा समिति की ओर से आयोजित कार्यशाला में लोगों को खुले में शौच और प्रदूषित जल से होने वाली बीमारियों के बारे में जानकारी दी गई।

मुख्य प्रशिक्षक वाश इंस्टीट्यूट कोलकाता के ज्योतिमोर्य चक्रवर्ती ने विद्यालय स्वच्छता, व्यक्तिगत स्वच्छता, शुद्ध पेयजल पर विस्तार से प्रकाश डाला। कहा विद्यालयों में स्वच्छता से बच्चों का मन पढ़ाई में लगेगा। सहारनपुर के वाश इंस्टीट्यूट से आए सरोज कुमार दास ने खुले में शौच, प्रदूषित जल के सेवन से होने वाली बीमारियों के बारे में बताया। कहा ऐसे में टायफाइड, पीलिया, डायरिया, हैजा, मलेरिया आदि बीमारियां फैलती हैं। खुले में शौच पर रोक, शुद्ध पेयजल से इन बीमारियों से बचा जा सकता है। आइटीसी मिशन सुनहरा कल के कार्यक्रम प्रबंधक शुभेंधु दास ने कहा प्रशिक्षण की सफलता तभी है, जब स्कूलों के अलावा गांवों में इस पर अमल हो। आदर्श युवा समिति के परियोजना प्रबंधक पवन कुमार ने स्वच्छता प्रेरकों, प्रशिक्षकों के प्रति आभार जताया। इस दौरान अंग्रेज ¨सह, मोहम्मद सफी, नंदिनी शर्मा, अंकित कुमार, नरेश कुमार आदि उपस्थित रहे।

Posted By: Jagran