जागरण संवाददाता: हरिद्वार: बहुजन समाज पार्टी में एक तरफ जिला पंचायत अध्यक्ष, जिपं सदस्यों और पूर्व कांग्रेस जिलाध्यक्ष को शामिल कर जहां पार्टी को मजबूत करने का कार्य किया जा रहा है, वहीं पार्टी में बगावत भी थमने का नाम ले रही है। अब पार्टी के कई विधानसभा क्षेत्र अध्यक्षों ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है।

पिछले दिनों बसपा में पहले जिला पंचायत अध्यक्ष सविता चौधरी, पूर्व कांग्रेस जिलाध्यक्ष चौधरी राजेंद्र ¨सह समेत परिवार के कई सदस्यों को शामिल किया गया था, लेकिन इसके तुरंत बाद पार्टी के जिलाध्यक्ष राजेश कुमार ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया था। इसके बाद सात दिसंबर को जब रुड़की में एक कार्यक्रम कर जिला पंचायत अध्यक्ष एवं पूर्व कांग्रेस जिला अध्यक्ष की मौजूदगी में 24 जिला पंचायत सदस्यों को बसपा की सदस्यता दिलाई गई, लेकिन इसके अगले ही दिन आठ दिसंबर को पार्टी के कई विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया। हरिदर विस क्षेत्र अध्यक्ष वीरेंद्र ¨सह, झबरेड़ा के अध्यक्ष सुरेश कुमार, भगवानपुर के अध्यक्ष दिनेश कुमार और मंगलौर विधानसभा क्षेत्र अध्यक्ष ओमपाल ¨सह इस्तीफा देने वालों में शामिल हैं। इन्होंने प्रदेश अध्यक्ष पर उपेक्षा का आरोप लगाकर इस्तीफा देने की बात दोहराई है। कांग्रेसियों और अन्य दलों के लोगों को जुड़ने से बसपा मजबूत तो हो रही है, लेकिन उसके पदाधिकारियों की ओर से भी एक के बाद एक इस्तीफा दिए जाने से पार्टी का कुनबा बिखर भी रहा है, जिससे फिलहाल पार्टी को फायदा और नुकसान दोनों ही हो रहे हैं। लेकिन यह इस्तीफा देने और पार्टी में शामिल करने का खेल कब तक चलता है और इसका परिणाम क्या आता है, यह आने वाले समय बताएगा। फिलहाल पार्टी संगठन उथल-पुथल को लेकर काफी ¨चतित है।

Posted By: Jagran