संवाद सूत्र, लक्सर: क्षेत्र में नियम-कायदों को ताक पर रखकर पैथोलॉजी लैब का संचालन किया जा रहा है। बिना विभागीय अनुमति तथा प्रशिक्षित कर्मचारियों के चल रही इन पैथोलॉजी लैब में जांच के नाम पर लोगों की जेब काटी जा रही है।

इन दिनों डेंगू का खौफ है, पैथोलॉजी लैब संचालक जमकर चांदी काट रहें हैं। पिछले कुछ समय में लक्सर नगर व आसपास के क्षेत्र में बड़ी संख्या में पैथोलॉजी लैब खुल गई हैं। मल, मूत्र व रक्त की जांच करने का कार्य इन लैब में किया जाता है। जांच कराने वाले मरीजों व उनके तीमारदारों से मनमाना शुल्क वसूला जाता है, जबकि इन पैथोलॉजी लैब संचालकों के पास न तो विभागीय अनुमति है और न ही यहां जांच के लिए प्रशिक्षित कर्मचारी ही मौजूद हैं। नियमानुसार पैथोलॉजी संचालन के लिए स्वास्थ्य विभाग की अनुमति तथा प्रशिक्षित लैब टेक्नीशियन व सुविधाएं होना आवश्यक है। यहां नियम कायदों को ताक पर रखकर लैब संचालित हो रही है। इन दिनों चल रहे डेंगू सीजन में अधिकांश चिकित्सक बुखार आदि के संदिग्ध मामलों में मरीजों की जांच करा रहें हैं। मिलीभगत के चलते जांच के नाम पर जमकर लोगों की जेब काटी जा रही हैं। इसके बाद भी मरीज को सही रिपोर्ट मिल सकेगी इसकी गांरटी नहीं है। क्षेत्र में पैथोलॉजी लैब व अस्पतालों में कराए गए परीक्षण की रिपोर्ट में भिन्नता भी मिली है। गौरतलब है कि रोगी की जांच के बाद लैब रिपोर्ट के अनुसार ही चिकित्सा शुरू कर दवाइयां आदि दी जाती है। ऐसे में जांच रिपोर्ट महत्वपूर्ण होती है। गलत जांच रिपोर्ट होने से मरीज की जान को खतरा भी हो सकता है।

-----------

सीएमओं ने जारी किए निर्देश

सोमवार को मंगलौर में निरीक्षण के दौरान सीएमओ ने बिना अनुमति के संचालित अस्पतालों व लैब आदि को लेकर निर्देश जारी किए हैं। लक्सर सीएचसी के चिकित्साधिकारी डॉ. अनिल वर्मा ने बताया कि क्षेत्र में संचालित हो रही पैथौलॉजी लैब का जांच की जाएंगी। यदि कहीं बिना अनुमति के लैब का संचालन हो रहा है तो कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप