मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

संवाद सूत्र, लक्सर: बैसाखी पर्व पर हस्तमौली गांव स्थित गुरूद्वारे में सत्संग कीर्तन का आयोजन किया गया। सत्संग के दौरान गुरूद्वारे के ग्रंथी मुख्तार सिंह ने कहा कि बैसाखी के दिन सिख समाज के दसवें गुरू गोविंद सिंह जी ने खालसा पंथ की स्थापना की थी। इसके बाद से ही बैसाखी को सामूहिक जन्मोत्सव के रूप में मनाया जाता है।

उन्होंने कहा कि हम सभी को गुरू गोविद सिंह के बताये मार्ग पर चलना चाहिए। समाज में भाईचारा तथा सद्भाव बढ़ाने की आवश्यकता है। सत्संग कीर्तन के बाद गुरु के अटूट लंगर का आयोजन किया गया। इस दौरान गुरुबाज सिंह, अरविंदर सिंह, गुरुलाल सिंह, कुलजीत सिंह, प्रीतपाल सिंह, हीरा सिंह, परगट सिंह, सुखविदर सिंह, कुलदीप सिंह, साहब सिंह, रणजीत सिंह, मनजीत सिंह, आदि बडी संख्या में लोग मौजूद रहे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप