रुड़की, जेएनएन। वन आरक्षी भर्ती परीक्षा में नकल कराने वाले गिरोह के संचालक का एक दिन का पुलिस कस्टडी रिमांड कोर्ट ने मंजूर किया है। अब एसआइटी आरोपित को रिमांड पर लेकर कई जगहों पर जाएगी। नकल में इस्तेमाल होने वाले ब्लूटूथ, मोबाइल और सिम बरामद किए जाएंगे। साथ ही इस गिरोह से जुड़े अन्य लोगों का पता लगाया जाएगा।

पुलिस ने जेल में बंद मुख्य आरोपित मुकेश सैनी को रिमांड पर लेने के लिए कोर्ट में प्रार्थना पत्र दिया था। एसपी देहात स्वप्न किशोर सिंह ने बताया कि कोर्ट ने मुख्य आरोपित मुकेश सैनी का एक दिन का पुलिस कस्टडी रिमांड मंजूर किया है। बुधवार की सुबह आरोपित को रिमांड पर ले लिया गया है। 

एसआइटी की टीम आरोपित को रिमांड पर लेकर सलेमपुर जाएगी। जहां से नकल का कंट्रोल रूम चलाया गया था। इसके अलावा नकल में प्रयुक्त होने वाले ब्लूटूथ, मोबाइल और सिम भी बरामद किए जाएंगे। साथ ही इस गिरोह में शामिल अन्य लोगों के बारे में जानकारी जुटाई जाएगी। 

बताते चलें कि वन आरक्षी भर्ती परीक्षा में नकल कराने के मामले में मंगलौर और पौड़ी में दो मुकदमे दर्ज हुए थे। नकल गिरोह में अब तक रुड़की और पौड़ी पुलिस 12 लोगों की गिरफ्तारी कर चुकी है। जबकि अन्यों की तलाश जारी है।

यह भी पढ़ें: Forest guard recruitment Exam: एक कंट्रोल रूम बना पूरे उत्तराखंड में कराई गई नकल, ऐसे बनाई गई थी योजना

पौड़ी में नकल मामले का सुपरविजन करेंगे हरिद्वार एसएसपी

रुड़की से पेपर लीक होने का भंडाफोड़ करने वाली हरिद्वार पुलिस को ही अब इस मामले की बागडौर सौंपी गई है। पुलिस मुख्यालय ने अब पौड़ी में हुई नकल मामले की जांच का सुपरविजन करने की जिम्मेदारी एसएसपी हरिद्वार डी सैंथिल अवूदई कृष्ण राज एस. को सौंपी है। एसएसपी अब मंगलौर में हुई नकल मामले के साथ ही पौड़ी मामले की जांच को भी देखेंगे। एसएसपी ने भी इस बात की पुष्टि की है।

यह भी पढ़ें: Forest guard recruitment Exam: रुड़की से कक्ष निरीक्षक ने किया था पेपर लीक, आठ गिरफ्तार

Posted By: Bhanu Prakash Sharma

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस