संवाद सूत्र, लक्सर: प्राचीन पंचलेश्वर महादेव मंदिर की भूमि पर विद्यालय संचालन के नाम पर मंदिर की भूमि को खुर्दबुर्द करने के मामले में जिलाधिकारी के आदेश पर प्रशासन हरकत में आया है। प्रशासन की ओर से ग्राम प्रधान को नोटिस जारी कर जवाब मांगा गया है।

लक्सर तहसील क्षेत्र में सुल्तानपुर के समीप प्राचीन पंचलेश्वर महादेव मंदिर है। मंदिर के पास काफी भूमि है। यह भूमि अवैध कब्जों की भेंट चढ़ रही है। बताया गया कि मंदिर के समीप एक स्थानीय व्यक्ति स्कूल का संचालन कर रहा है। वर्ष 2015 में तत्कालीन ग्राम प्रधान के नेतृत्व में बनी भूमि प्रबंध समिति की ओर से मंदिर की पांच बीघा भूमि जिसकी कीमत करीब पचास लाख रुपये है, स्कूल के नाम दान करने का प्रस्ताव पारित कर दिया था। प्रस्ताव के बाद हल्का लेखपाल की संस्तुति पर राजस्व विभाग में भी उस भूमि को खसरे में स्कूल के नाम दर्ज कर दिया गया था। मामले में आरटीआई कार्यकर्ता विनय सैनी ने सूचना अधिकार के तहत सूचना मांगकर प्रकरण का पर्दाफाश कर ग्रामीणों के साथ मिलकर प्रशासन से शिकायत की थी। शिकायत मिलने के बाद विभाग में हड़कंप मच गया था। इसके बाद आननफानन उस भूमि को वापस मंदिर के नाम दर्ज कर दिया गया था।

मामले में कोई कार्रवाई न होने पर विनय सैनी ने जिलाधिकारी से शिकायत की। बताया कि भूमि के वापस मंदिर के नाम दर्ज होने के बावजूद अभी तक स्कूल संचालक की ओर से भूमि पर कब्जा किया गया है। मंदिर के एक कमरे को भी स्कूल संचालक ने अपने कब्जे में रखा है। जिलाधिकारी ने उपजिलाधिकारी को कार्रवाई का आदेश दिया। इस पर उपजिलाधिकारी कौस्तुभ मिश्र ने ग्राम प्रधान को नोटिस जारी कर जवाब तलब किया है। उपजिलाधिकारी ने बताया कि मामले में ग्राम प्रधान को नोटिस जारी कर अपना पक्ष रखने को कहा गया है। जांच के बाद जो भी दोषी होगा, उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran