संवाद सूत्र, लंढौरा: खनन विभाग की ओर से ईंट भट्ठा स्वामियों को लाखों रुपये के नोटिस थमा दिए हैं। इसके साथ ही भट्ठा स्वामियों में हड़कंप है। उन्होंने सांसद से इस संबंध में वार्ता की। वहीं, डीएम से मिलने के लिए वक्त मांगा है।

सोमवार को खनन विभाग की ओर से ईंट भट्ठा स्वामियों को 11 लाख 20 हजार रुपये के नोटिस थमा दिए। नोटिस मिलने के साथ ही भट्ठा मालिकों में हड़कंप मच गया। 100 से अधिक भट्ठा स्वामियों ने यह मामला यूनियन के समक्ष रखा। इस पर सोमवार को यूनियन की एक बैठक बुलाई गई। बैठक में यूनियन के जिलाध्यक्ष नरेश त्यागी ने बताया कि शासन ने दो लाख रुपये प्रति वर्ष टैक्स निर्धारित किया था। अब जिला खनन अधिकारी की ओर से प्रत्येक भट्ठा स्वामी को 11.80 लाख रुपये का नोटिस थमा दिया गया है। इससे भट्ठा स्वामियों में रोष है। ऐसे तो उनका कारोबार ही ठप हो जाएगा। बैठक के दौरान भट्ठा स्वामियों ने सांसद डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक से वार्ता की। साथ ही मंगलवार को डीएम से मिलकर वार्ता करने का निर्णय लिया है। बैठक में विपिन गोयल, सुभाष ¨सघल, चौधरी बिजेंद्र ¨सह, नागेंद्र, जावेद, अशोक राणा, गुड्डू आदि मौजूद रहे। बताते चले कि रविवार को भट्ठा मालिकों ने खनन मोहर्रिर और प्रदूषण विभाग के मॉनिटर सहायक को बैठा लिया था। बाद में पुलिस के हस्तक्षेप पर मामला शांत हो पाया था।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप