हरिद्वार, जेएनएन। भारत और नेपाल के बीच उत्तराखंड के कालापानी क्षेत्र को लेकर बढ़ी तल्खी के बीच हरिद्वार पहुंचे नेपाल के उप प्रधानमंत्री उपेंद्र यादव ने कहा कि भारत और नेपाल भले ही दो राष्ट्र हों, लेकिन आत्मा एक ही है। उन्होंने कहा कि दो देश भाई-भाई हैं और भाइयों में छोटे-मोटे विवाद होते ही रहते हैं और दोनों देश आपसी बातचीत से इसका समाधान कर लेंगे।

शुक्रवार को दो दिवसीय दौरे के अंतिम दिन हरिद्वार स्थित पंतजलि योगपीठ में मीडिया से बातचीत के दौरान नेपाल के उप प्रधानमंत्री ने कहा कि पहले भी दोनों देशों के बीच छोटे-मोटे विवाद होते रहे हैं, जिनका मिल बैठकर समाधान किया गया। उन्होंने कहा कि कालापानी कोई बड़ी समस्या नहीं है। यादव ने कहा कि यह दो भाइयों के बीच की बात है और दोनों जल्द इसका हल निकाल लेंगे। 

इससे पहले पतंजलि योगपीठ में आयोजित सम्मान समारोह में उन्होंने कहा कि नेपाल व भारत में जड़ी-बूटियों की बहुलता है, जो विश्व को आरोग्य प्रदान कर रही है। उन्होंने कहा कि असाध्य रोगों को समूल नष्ट करने का योग और आयुर्वेद ही एकमात्र उपाय है। निश्चित ही पतंजलि अनुसंधान संस्थान के प्रयास आने वाले दिनों में पूरे विश्व को नई सोच देंगे। कार्यक्रम में स्वामी रामदेव ने कहा कि नेपाल व भारत को मित्रता और एकता विरासत में मिली है। दोनों राष्ट्र पूर्ण सद्भाव व एकता के साथ प्रगति के प्रगति के पथ पर आगे बढ़ रहे हैं। 

यह भी पढ़ें: कालापानी को लेकर कभी नहीं रहा है भारत-नेपाल में विवाद, इतिहास में भी कोई प्रमाण नहीं

पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बालकृष्ण ने कहा कि पतंजलि की शैक्षणिक सेवाओं को सुदृढ़ स्वरूप प्रदान करने के लिए पतंजलि विश्वविद्यालय में परामर्शदात्री समिति का गठन किया गया है। उन्होंने कहा कि नेपाल को भी इसका लाभ मिलेगा। इस अवसर पर पतंजलि विश्वविद्यालय के प्रतिकुलपति प्रोफेसर महावीर अग्रवाल, रजिस्ट्रार प्रवीण पूनिया भी मौजूद थे। 

यह भी पढ़ें: कालापानी विवाद पर बोले सीएम रावत, भारत के हिस्से भारत में ही रहेंगे

 

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप