हरिद्वार, जेएनएन। आखिरकार वन विभाग की टीम ने हत्यारे हाथी को पकड़ने में सफलता हासिल कर ही ली। दरअसल, टीम पिछले चार दिनों से इस हाथी को पकड़ने की कोशिश में जुटी हुर्इ थी। 

शुक्रवार सुबह वन विभाग और राजाजी टाइगर रिजर्व पार्क की संयुक्त टीमों ने भेल क्षेत्र से सटे जंगल में हाथी को ट्रेंकुलाइज कर लिया। जिसके बाद विभाग की टीम ने क्रेन की मदद से हाथी को ट्रक में लाद दिया। अब वन विभाग हाथी को उस स्थान पर ले जाने की तैयारी कर रहा है, जहां उसे ट्रीटमेंट दिया जाएगा। 

इतना ही नहीं वन विभाग ये रणनीति भी बना रहा है कि आगे हाथी को जंगल में छोड़ा जाएगा या फिर उसे पालतू बनाया जाएगा। हरिद्वार रेंज के रेंजर दिनेश मोहन नौटियाल ने बताया कि उच्चाधिकारियों के निर्देश पर उचित कदम उठाया जाएगा। 

गौरतलब है कि बीते रविवार को ये हाथी भेल क्षेत्र के सेक्टर टू आबादी इलाके में घुस गया था। जिससे मौके पर हड़कंप मच गया। सूचना मिलने पर वन और राजाजी टाइगर रिजर्व की टीम मौके पर पहुंच गई थी, जिन्होंने लोगों को हाथी के हमले से बचाने के लिए उसे जंगल की ओर खदेड़ दिया था। इसी के साथ उसे जंगल में चारों ओर घेर लिया था।

दोपहर बाद देहरादून से हाथी को पकडऩे के लिए वन विभाग की रेस्क्यू टीम पहुंच गई थी। टीम ने हाथी को पकड़ने की तैयारियां शुरू कर दी थी। इसके लिए भेल के सेक्टर टू मेटेरियल गेट के बाहर वाला रास्ता बंद कर दिया गया था। लेकिन शाम हो जाने पर शासन के निर्देश पर रात में हाथी को ट्रेंकुलाइज करने का कार्य रोक दिया गया। सुबह हाथी को पकड़ने की योजना बनाई गई, जिससे अब सुबह हाथी को ट्रेंकुलाइज करने के लिए अभियान चलाया गया। 

यह भी पढ़ें: हरिद्वार में हाथी का आतंक, भेलकर्मी को मार डाला

यह भी पढ़ें: भेल मार्ग पर हाथियों का उत्पात, ऑटो पलटकर राहगीरों को दौड़ाया

यह भी पढ़ें: कॉर्बेट टाइगर रिजर्व के पास हाथी ने लूटा राशन, वन विभाग ने फायरिंग कर भगाया

Posted By: Raksha Panthari

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप