हरिद्वार: राष्ट्र की मंगलकामना के उद्देश्य से उत्तरी हरिद्वार की प्रख्यात धार्मिक संस्था लाल माता मंदिर में भक्त दुर्गादास के संयोजन में श्रीराम चरित मानस के अखंड पाठ का आयोजन किया गया। इस अवसर पर जयराम आश्रम के परमाध्यक्ष ब्रह्मस्वरूप ब्रह्मचारी ने कहा कि भगवान श्रीराम आदर्श, मर्यादा व चरित्र के नायक हैं। राम चरित मानस धार्मिक ग्रंथ होने के साथ-साथ जीवन के मर्म को सरल भाषा में समझाने का माध्यम है। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम ने अपने समूचे जीवनकाल में समाज के कमजोर वर्ग का उत्थान करते हुए सत्य की पताका को लहराते हुए आसुरी शक्तियों का विनाश करते हैं। वर्तमान आधुनिकता के युग में जब हमारी संस्कृति पर पाश्चात्य संस्कृति हावी हो रही है, ऐसे में राम चरित मानस ही युवा पीढ़ी को संस्कार व आदर्श का बोध कराते हुए भारतीय संस्कृति को अक्षुण्ण रख सकती है। इस मौके पर स्वामी ज्ञानानन्द शास्त्री, भक्त दुर्गादास, पार्षद अनिरूद्ध भाटी, अनिल मिश्रा, विनित जौली, विदित शर्मा, राजेन्द्र शर्मा, अश्विनी दीक्षित, हेमन्त थपलियाल, हीरा जोशी, सकलदेव, राकेश सकलानी आदि मौजूद रहे। (संस)

Posted By: Jagran