संवाद सहयोगी, हरिद्वार: मोहम्मदपुर बुजुर्ग के ग्रामीणों की शिकायत पर प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में बड़ा गड़बड़झाला पकड़ में आ सका है, यहां मृतकों और अपात्रों को भी प्रधानमंत्री किसान सम्मान राशि बांट दी गई, लेकिन अब मजे की बात यह है कि जिस गांव की शिकायत की गई थी, उसी की रिपोर्ट अभी तक नहीं पहुंची है।

जिला कृषि रक्षा अधिकारी एके गौतम की जांच रिपोर्ट में लक्सर तहसील क्षेत्र के निरंजनपुर और दरगाहपुर में प्रधानमंत्री किसान सम्मान निधि योजना में 185 व्यक्ति अपात्र पाए गए हैं, ये ऐसे व्यक्ति हैं, जिनके नाम जमीन भी नहीं है या फिर यह जमीन बेच चुके हैं। मृतकों, सरकारी सेवा में कार्यरत व पेंशनधारक भी योजना में शामिल करने का मामला प्रकाश में आया है, लेकिन जिस गांव में बड़ी संख्या में अपात्र होने की शिकायत ग्रामीणों की ओर से गई थी, वहीं की रिपोर्ट को जारी करने में संबंधित लेखपपाल हीलाहवाली कर रहे हैं, जबकि इन दो गांव की रिपोर्ट भेजी जा चुकी है। जिला कृषि रक्षा अधिकारी एक गौतम ने बताया कि जिलाधिकारी सी रविशंकर से मोहम्मपुर बुजुर्ग के ग्रमीणों की ओर से बड़ी संख्या में गांव में अपात्रों को योजना का लाभ लिए जाने की शिकायत की गई थी। जिस पर जिलाधिकारी के निर्देश पर मोहम्मदपुर बुजुर्ग के साथ ही निरंजनपुर व दरगाहपुर की जांच करने के लिए मुख्य कृषि अधिकारी डॉ. विकेश कुमार सिंह यादव ने उन्हें कहा था। उन्होंने बताया कि लाभार्थियों की जमीनों संबंधी जांच रिपोर्ट के लिए लेखपालों से कहा गया है, लेकिन उन्होंने अभी तक जांच रिपोर्ट नहीं दी है, जबकि मोहम्मदपुर बुजुर्ग में योजना में बड़ा घोटाला सामने आ सकता है। उनका कहना है कि लेखपालों की ओर से रिपोर्ट दिए जाने पर उनकी ओर से इस गांव की रिपोर्ट भी मुख्य कृषि अधिकारी के माध्यम से जिलाधिकारी को भेज दी जाएगी।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस