जागरण संवाददाता, हरिद्वार: कनखल मोहल्ले में अतिक्रमण पर बुधवार को एक बार फिर जेसीबी गरजी। लाल निशान लगे चिह्नित अतिक्रमण को जिला प्रशासन, नगर निगम और पुलिस की संयुक्त टीम ने शंकराचार्य चौक से बंगाली मोड़ तक हटवा दिया। टीम का नेतृत्व खुद अपर जिलाधिकारी व मुख्य नगर आयुक्त डॉ. ललित नारायण मिश्र, सिटी मजिस्ट्रेट मनीष कुमार ¨सह आदि कर रहे थे। दल के रास्ते में अतिक्रमण हटाने में जिसने भी बाधक बनने की कोशिश की, उसे टीम ने आंखे तरेर कर डराया। वहीं, अतिक्रमण हटाओ दल ने देवस्थली रामेश्वर महादेव मंदिर कनखल के चबूतरे को भी तुड़वा दिया। मंदिर के बाहर बने पशु बांधने के स्थान पर गायों को खूंटे से खोलकर हटाने के बाद तोड़कर ढहा दिया। वहीं अतिक्रमण हटाने वाले दल को अपशब्द कहने वाले एक दुकानदार पर सिटी मजिस्ट्रेट ने हाथ छोड़ दिया। बाद में उसके परिवार वालों ने उसके कार्य के लिए हाथ जोड़ माफी मांगी, जिस पर टीम ने उसे जाने दिया।

जिला प्रशासन व नगर निगम ने कनखल क्षेत्र में लोगों को खुद से अतिक्रमण हटाने के लिए 15 दिन की मोहलत दी थी। इस दौरान टीम ने अतिक्रमण की जद में आने वाले घर, दुकान, चबूतरे, मंदिर के गेट आदि पर लाल निशान लगवा दिया था। समय पूरा होने पर बुधवार को मुख्य नगर आयुक्त डॉ ललित नारायण मिश्र, सिटी मजिस्ट्रेट मनीष कुमार ¨सह के नेतृत्व में प्रशासन, नगर निगम, पुलिस के लोग दलबल शंकराचार्य चौक पर पहुंचे। चौराहे पर ही चिह्नित अतिक्रमण की जद में आने वाले एक भोजनालय को जेसीबी ने तोड़ना शुरू कर दिया। इसके बाद उसके बगल में दुकानों के चबूतरे को टीम ने तोड़ना शुरू किया। इसी दौरान एक दुकानदार ने टीम को अपशब्द कहना शुरू कर दिया। मना करने पर भी चुप न होने पर सिटी मजिस्ट्रेट मनीष कुमार ¨सह ने उस पर हाथ छोड़ दिया। यह देख पुलिस कर्मियों ने दुकानदार को पकड़ा। दुकानदार के परिवारवालों ने माफी मांगकर जान छुड़ाई। दुकानदार ने भी गलती मान छोड़ने की गुहार की, जिस पर टीम ने उसे वहां से चले जाने को कहा। इसके बाद टीम ने पास में ही स्थित देवस्थली रामेश्वर महादेव मंदिर कनखल के चबूतरे को भी तुड़वा दिया। मंदिर के बाहर बने पशु बांधने के स्थान पर गायों को खूंटे से खोलकर हटाने के बाद तोड़कर ढहा दिया। इसके बाद अतिक्रमण हटाओ दल आगे बढ़ा। दुकानों के बाहर बढ़े हिस्से को तोड़ा गया। रास्ते में हरिराम इंटर कालेज के चहारदीवारी को तोड़ते हुए टीम बंगाली मोड़ पर पहुंची और अतिक्रमण को नेस्तनाबूत करने में जुट गई।

सड़क पर लगी भीड़, बैरिकेड कर रोका रास्ता

शंकराचार्य चौक और कनखल की ओर जाने वाले रास्ते पर अतिक्रमण हटाने की कार्रवाई के दौरान बड़ी संख्या में हाईवे से गुजर रहे राहगीर अपने वाहन रोककर देखने लगे। वहीं मोहल्ले में जाने वाले वाहनों से जाम लगने की नौबत आने पर पुलिस ने सड़क के मोड़ पर बैरिकेड कर कुछ देर के लिए उधर से वाहनों के गुजरने पर रोक लगा दी। इससे मोहल्ले वालों को आवागमन में भी परेशानी हुई। कई स्कूलों के वाहन भी दूसरे रास्ते से भेजे गए।

गाय को खूटे से खोलने पर सड़क पर मची भगदड़

अतिक्रमण हटाने के दौरान देवस्थली रामेश्वर महादेव मंदिर के बाहरी हिस्से में बंधी गायों को खूंटे से खोलकर टीम ने वहां के अतिक्रमण को ढहा दिया। खूंटे से छूटने के बाद गायें इधर उधर दौड़ने लगीं। वे हाईवे पर दौड़ते पहुंच गईं। इससे थोड़ी देर के लिए भगदड़ की स्थिति बन गई। बाद में पुलिस कर्मियों ने उन्हें सड़क के किनारे पैदल मार्ग की ओर पहुंचाया। गनीमत रही कि कोई गाय इस दौरान किसी वाहन की चपेट में नहीं आईं।

टीम का तेवर देख कई ने खुद तोड़ना शुरू किया अतिक्रमण

कनखल में लाल निशान लगाने के बाद जिन दुकानदारों या भवन स्वामियों ने अपने उस हिस्से को नहीं तोड़ा था, जिस पर लाल निशान लगा था। वह शायद इस इंतजार में थे कि उनका अतिक्रमण शायद बच जाए। मगर टीम की सख्ती व अधिकारियों के कड़े तेवर देख कई ने आननफानन खुद ही हथौड़े लेकर अतिक्रमण हटाना शुरू कर दिया। उनको देख कई अन्य भी इसी काम में जुट गए।

Posted By: Jagran