संवाद सूत्र, लालढांग: गैंडीखाता के ग्राम पंचायत भवन में खाद्य विभाग का कार्यालय संचालित किया जा रहा है। वहीं ग्राम पंचायत के बैठक करने के लिए ग्राम पंचायत सदस्यों को जगह तलाशने को मजबूर होना पड़ता है। स्थान नहीं होने से कई बार बैठक भी स्थगित करनी पड़ती है, जिससे गांव का विकास कार्य प्रभावित हो रहा है।

प्रत्येक ग्राम पंचायत की मासिक बैठक और अन्य विकास कार्यों की आपसी सहमति बनाने और जनता को योजनाओं की जानकारी देने के लिए पंचायत भवन का निर्माण कराया गया था। लालढांग क्षेत्र के कई पंचायत भवन तो क्षतिग्रस्त हो चुके हैं, वहीं जो ठीक हालत में हैं भी, उनमें अन्य विभागों के कार्यालय संचालित किए जा रहे हैं। न्याय पंचायत लालढांग की ग्राम पंचायत गेंडीखाता के पंचायत भवन में उद्यान एवं खाद्य प्रसंस्करण विभाग का कार्यालय संचालित किया जा रहा है। पंचायत के बैठक कक्ष को अन्य विभाग को दिया गया है। एक ओर जहां रेकॉर्ड रखने के लिए कमरा बनाया गया है, वहां पांच हजार की आबादी वाले ग्राम पंचायत के जनप्रतिनिधि ओर ग्राम विकास अधिकारी बैठक कर पंचायत के विकास कार्य करवा रहे हैं। जहां ग्राम पंचायत की बैठक संचालित की जाती है, वहां मात्र तीन कुर्सियां ही लगाई जा सकती है। ऐसे में अंदाज लगाया जा सकता है कि अधिकारी और जनप्रतिनिधि कितने संजीदा होकर यहां विकास संबंधी बैठक संपन्न करते होंगे। एक ओर ग्रामीणों को योजनाओं की जानकारी देते होंगे। ग्राम प्रधान बबीता देवी ने बताया कि बीडीओ को मामले की सूचना दे दी गई थी, जिसके बाद उद्यान विभाग ने अपना सामान हटा लिया है। अब वह बाढ़ चौकी का सामान है। कुछ सामान उद्यान प्रसंस्करण का भी बचा हुआ है। जल्द ही पंचायत भवन को पूरा खाली करा अपने अधीन लिया जाएगा।

Posted By: Jagran