जागरण संवाददाता, हरिद्वार: दो दिन की हड़ताल के बाद बुधवार को विशेषज्ञ डॉक्टर पहले की तरह काम करने लगेंगे। डीजी हेल्थ के आश्वासन और पीएमएस एसोसिएशन के प्रांतीय नेतृत्व के निर्देश पर विशेषज्ञ डॉक्टरों ने काम पर लौटने का निर्णय लिया है। इससे पहले मंगलवार को भी विशेषज्ञ डॉक्टरों ने विशेषज्ञता से संबंधित कोई काम नहीं किया। जिससे मरीजों को परेशानी का सामना करना पड़ा।

मंगलवार को हड़ताल के दूसरे दिन मेला अस्पताल के रेडियोलॉजिस्ट डॉ. राजेश गुप्ता ने अधीक्षक के पद का दायित्व तो निभाया, लेकिन अल्ट्रासाउंड और एक्सरे की रिपोर्टिंग नहीं की। अल्ट्रासाउंड ठप होने से मरीजों को निराश लौटना पड़ा। वहीं ओपीडी में बालरोग विशेषज्ञ डॉ. शशिकांत ने भी सामान्य मरीजों को केवल परामर्श दिया। महिला अस्पताल में बालरोग विशेषज्ञ डॉ. संदीप निगम ने भर्ती बच्चों के अलावा इमरजेंसी के मरीजों का ही इलाज किया। जिला अस्पताल के डॉ. चंदन कुमार मिश्रा, डॉ. राजकुमार भी हड़ताल पर रहे। वहीं, डीजी हेल्थ के आदेश के क्रम में अस्पताल की प्रमुख अधीक्षक डॉ. आरती ढौंडियाल ने पत्र जारी कर विशेषज्ञ चिकित्सकों से पूर्व की तरह काम करने को कहा, लेकिन डॉक्टरों ने प्रांतीय नेतृत्व के निर्णय आने तक विरोध जारी रखा। दोपहर बाद डॉ. शशिकांत ने प्रांतीय नेतृत्व के हवाले से बताया कि डीजी हेल्थ ने प्रांतीय पदाधिकारियों को सचिव स्वास्थ्य की बैठक में लिए गए निर्णय की जानकारी दी। इसमें सभी डॉक्टरों को विधानसभा सत्र में उत्तराखंड आयुर्विज्ञान परिषद अधिनियम 2002 में संशोधन तक पूर्व की तरह विशेषज्ञ चिकित्सक का कार्य करते रहने की बात कही गई है। इसको देखते हुए प्रांतीय नेतृत्व ने बुधवार से पहले की तरह चिकित्सा सुविधाओं का संचालित करने का निर्णय लिया है।

Posted By: Jagran