रुड़की: नहर किनारे स्थित श्री लक्ष्मीनारायण मंदिर में बुधवार को हरितालिका तीज का पर्व मनाया जाएगा। इस मौके पर मंदिर में विशेष पूजा-अर्चना की जाएगी। मंदिर के पंडित रामगोपाल पराशर के अनुसार, हरितालिका तीज का व्रत सुहागिनें अपने सौभाग्य की रक्षा के लिए श्रद्धा और विश्वास के साथ करती हैं। जबकि कन्याएं सुयोग्य वर के लिए इस व्रत को रखती हैं। यह व्रत निर्जला रहकर किया जाता है। वहीं, अगले दिन व्रत संपन्न होता है। उन्होंने बताया कि हरितालिका तीज पर भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा-अर्चना की जाती है। दूध, दही, बेलपत्र आदि पूजन सामग्रियों से भगवान शिव की आराधना करनी चाहिए। वहीं माता पार्वती को श्रृंगार का सामान अर्पित किया जाता है।

Posted By: Jagran