जागरण संवाददाता, हरिद्वार। Haridwar Kumbh Mela 2021 कुंभ के अंतिम शाही स्नान में बैरागी अखाड़ों के साथ उदासीन और निर्मल अखाड़े के संत भी भाग लेंगे। 27 अप्रैल को चैत्र पूर्णिमा के दिन यह स्नान होगा। बैरागी अखाड़ों में से एक श्रीपंच निर्मोही अणि अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्र दास ने कहा कि स्नान के दौरान कोविड गाइड लाइन का पालन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि शाही जुलूस में संतों की संख्या भी सीमित रहेगी। हालांकि समय पूर्व कुंभ के विसर्जन पर उन्होंने नाराजगी भी जताई।  

रविवार शाम बैरागी कैंप में मीडिया से बातचीत में श्रीमहंत राजेंद्र दास ने कहा कि कुंभ समाप्ति की घोषणा करने वाले संत, परंपरा और श्रद्धालुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहे हैं और समाज में भ्रम की स्थिति उत्पन्न कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि जिसे कुंभ मेले में रहना है वह रहे, जिसे जाना है जाए, लेकिन सुर्खियों में रहने के लिए गलत बयानबाजी न करें। कुंभ मेला दैवीय आयोजन है और इसमें ग्रह नक्षत्र और परंपरा और विधि-विधान के साथ ही देवताओं की स्थापना और विसर्जन किया जाता है। असमय कुंभ का विसर्जन धार्मिक परंपराओं के विरुद्ध है। इस अवसर पर श्रीपंचायती अखाड़ा नया उदासीन के प्रमुख महंत भगतराम और निर्मल अखाड़े के कोठारी महंत जसविंदर सिंह भी उपस्थित थे।

आस्था के साथ परिवार की सुरक्षा भी जरूरी

श्रीमहंत राजेंद्र दास श्रद्धालुओं से अनुरोध किया कि कोरोना के संक्रमण को देखते हुए कुंभ मेले में आने से बचें और घर बैठे ही कुंभ दर्शन का लाभ लें। कहा कि आस्था और परंपरा के साथ-साथ व्यक्ति का कर्तव्य है कि वह अपनी और परिवार की सुरक्षा का भी ध्यान रखे। इसलिए सतर्कता ही बचाव है। श्रीमहंत ने वैष्णव संतो से भी अपील की कि कुंभ में कम से कम संख्या में निवास करें। 

यह भी पढ़ें-प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा- कोविड-19 महामारी के चलते प्रतीकात्मक होना चाहिए कुंभ मेला

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021