संवाद सहयोगी, हरिद्वार। Haridwar Kumbh Mela 2021 अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज ने बैरागी कैंप पहुंचकर तीनों वैष्णव अणि अखाड़ों के श्रीमहंतों से कुंभ मेला कार्यों को लेकर चर्चा की। इस दौरान श्रीपंच निर्मोही अणि अखाड़े के अध्यक्ष श्रीमहंत राजेंद्र दास महाराज ने कहा कि कुंभ मेला कार्यों को लेकर बैरागी कैंप क्षेत्र में मेला प्रशासन की ओर से अभी तक भूमि आवंटित नहीं की गई है, जोकि चिंता का विषय है। चेतावनी दी कि बैरागी संतों की उपेक्षा मेला प्रशासन को भारी पड़ेगी।

श्रीमहंत राजेंद्र दास महाराज ने कहा कि वृंदावन में मेले के बाद बहुत बड़ी संख्या में वैष्णव संत एक साथ हरिद्वार आगमन करेंगे, जिससे मुश्किल हो जाएगी। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वाले संतों के लिए बिजली, पानी, शौचालय और शिविर की व्यवस्था सरकार को करानी चाहिए। उन्होंने कहा कि मेला प्रशासन से बार-बार मांग करने के बाद भी बैरागी संतों को मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध नहीं कराई जा रही हैं। अगर समय रहते मेला प्रशासन नहीं जागा तो सरकार को वैष्णव संतों का गुस्सा ङोलना पड़ेगा। बैरागी संत इसके लिए उग्र आंदोलन करेंगे।

श्री पंच दिगंबर अनी अखाड़े के श्रीमहंत कृष्णदास महाराज ने कहा कि बैरागी संतों की उपेक्षा मेला प्रशासन और सरकार की ओर से लगातार की जा रही है, जिसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। अखिल भारतीय श्री पंच रामानंदीय खाकी अखाड़ा के श्रीमहंत मोहनदास महाराज ने कहा कि वैष्णव संतों के सब्र का इम्तिहान मेला प्रशासन और राज्य सरकार न लें। अन्यथा किसान आंदोलन की तरह वैष्णव संत भी लाखों की संख्या में सड़कों पर उतर कर उग्र आंदोलन करेंगे, जोकि सरकार के लिए अच्छा नहीं होगा।

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरि महाराज ने वैष्णव अखाड़ों के संतों को आश्वासन दिया कि किसी भी अखाड़े के साथ अन्याय नहीं होने दिया जाएगा। वे प्रारंभ से बैरागी अखाड़ों के साथ हैं और रहेंगे। वैष्णव संतों को मूलभूत सुविधाएं मेला प्रशासन को तुरंत उपलब्ध करानी चाहिए। बड़ी संख्या में आने वाले वैष्णव संत के यदि शिविर नहीं लगते हैं तो वे कहां जाएंगे। इसके लिए प्रशासन को पहले से ही अपनी व्यवस्था पूर्ण कर लेनी चाहिए। 

इस दौरान अपर मेला अधिकारी हरवीर सिंह ने बैरागी कैंप पहुंचकर वैष्णव संतों से कुंभ मेले के कार्यों पर चर्चा की। इस दौरान महंत रामजी दास, महंत भगवान दास, महंत रामकृष्ण दास, महंत राम किशोर दास शास्त्री, महंत मनीष दास, महामंडलेश्वर गंगा दास, श्रीमहंत केशवदास, ब्रह्मांड गुरु अनंत रामानंदाचार्य महाप्रभु, आचार्य अमरीश तिवारी, महंत अमित दास, महंत सुखदेव दास आदि मौजूद रहे।

यह भी पढ़ें-  कुंभ में 18 हजार क्षमता के शेल्टर बनेंगे, एसओपी और राज्य सरकार की कार्यवाही पर लगी मुहर

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021