जागरण संवाददाता, हरिद्वार। भाजपा की पाला बदल चुनावी रणनीति का जवाब पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने फिल्म 'शोले' के डायलाग 'तुम एक मारोगे तो हम चार मारेंगे' के अंदाज में दिया है। उन्होंने दो टूक कहा कि यदि भाजपा अब भी नहीं सुधरी तो हम और तोड़ेंगे। उन्होंने कहा कि कांग्रेस में अब आक्रमक राजनीति का दौर शुरू हो गया, हर वार पर पलटवार होगा और जरूर होगा।

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने यह भी दावा किया कि हरिद्वार में घर वापसी करने वाले विधायकों के साथ ही भाजपा के दो विधायक कांग्रेस के सीधे संपर्क में हैं। भारतीय लोकतंत्र और राष्ट्र रक्षा को सही समय और सही जगह पर उन्हें कांग्रेस की सदस्यता दिलाई जाएगी। साथ ही उन्होंने भाजपा को सलाह दी कि राजनीति में हार और जीत लगी रहती है, यही लोकतंत्र की खूबी भी है, इससे लोकतंत्र मजबूत होता और बचा रहता है। यदि हार-जीत न हो तो लोकतंत्र की जरूरत धीरे-धीरे खत्म हो जाएगी। उसकी जगह तानाशाही ले लेगी, जो न तो राष्ट्रहित में उचित है और न ही राजनीति और राजनीतिक दलों के लिए।

उन्होंने कहा कि इसलिए भाजपा को चाहिए कि वह इस तरह के खेल खेलना बंद कर शुचिता की राजनीति करे, नहीं तो जल्द भाजपा में बड़ी भगदड़ मचेगी। उन्होंने कहा कि प्रदेश के साथ ही देश का युवा राजनीति में बड़े बदलाव की मांग कर रहा है, वह जोड़-तोड़, उठापटक की राजनीति से ऊब चुका है। बाकी सभी विकास की राजनीति चाहते हैं, बयान और भाषणबाजी उन्हें पसंद नहीं। ऐसे में कांग्रेस देशहित और लोकतंत्र को भावी खतरे से बचाने को शुचिता की राजनीति पर जोर दे रही है, जहां आम जनता की बेहतरी, उसकी आवश्यकता, शिक्षा और उसकी सेहत की बात की जा रही है।

उन्होंने आरोप लगाया कि भाजपा और उसके लोग ऐसा नहीं होने देना चाहते हैं। वह जोड़-तोड़ के अपने पुराने फार्मूले पर कायम रहे, सबका ध्यान इन बातों से हटाना चाहते हैं पर यह उनकी भूल है, क्योंकि कांग्रेस विकासपरक राजनीति के साथ उन्हें उनकी ही भाषा में न सिर्फ जवाब देना जानती है, बल्कि इसके लिए पूरी तरह से तैयार है।

यह भी पढ़ें:-Uttarakhand Politics: धामी सरकार के मंत्रियों ने पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को घेरा

Edited By: Sunil Negi