जागरण संवाददाता, रुड़की: महंगाई एवं भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए कांग्रेस एवं विपक्षी दलों की ओर से बुलाया गया भारत बंद रुड़की में बेअसर दिखा। सामान्य दिनों की भांति ही बाजार खुला रहा। कांग्रेस एवं सपा कार्यकर्ताओं ने जुलूस निकालकर जमकर नारेबाजी की।

सोमवार को कांग्रेस एवं समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता नारेबाजी करते हुए नेहरू स्टेडियम पर एकत्र हुए। यहां पर कलियर विधायक फुरकान अहमद, पूर्व महापौर यशपाल राणा, पूर्व पार्षद विकास त्यागी, महानगर अध्यक्ष कलीम खान, पूर्व राज्यमंत्री राम ¨सह सैनी, सपा के जिलाध्यक्ष दीनानाथ यादव, राष्ट्रीय सचिव समीर गौड आदि एकत्र हुए। यहां से जुलूस के रूप में नारेबाजी करते हुए मुख्य बाजार में पहुंचे। यहां उन्होंने व्यापारियों से बाजार बंद कराने के लिए कहा लेकिन अधिकांश कारोबारियों ने अपनी दुकाने खोले रखी। इसके बाद कांग्रेस एवं सपा कार्यकर्ता शहीद चंद्रशेखर चौक पर पहुंचे। कार्यकर्ताओं ने आरोप लगाया कि यह सरकार पूरी तरह से जनविरोधी है। प्रत्येक मोर्चे पर सरकार पूरी तरह से विफल साबित हुई है। काफी देर तक नारेबाजी होती रही। इनसेट--

कांग्रेस के जमाने में भी दाल 200 रुपये किलो थी

रुड़की: विधायक फुरकान अहमद जब सब्जी मंडी चौक के समीप दुकानदारों से दुकानें बंद करने का आग्रह कर रहे थे। तभी एक दुकानदार ने विधायक से कहा कि 'विधायकजी कांग्रेस के जमाने में अरहर की दाल 200 रुपये किलो बिक रही थी। पेट्रोल भी 80 रुपये लीटर रहा है। कुछ भी हो लेकिन वह दुकान बंद नहीं करेंगे। वोट भी मोदीजी को ही देंगे।' इसके बाद कांग्रेस कार्यकर्ता यहां से आगे चले गए।

Posted By: Jagran