संवाद सूत्र, कलियर: बुग्गावाला के बंजारेवाला गांव में फर्जी ई-रवन्ना (खनन निकासी का प्रपत्र) पर खनन करने वाले गिरोह का पुलिस ने भंडाफोड़ किया है। पुलिस ने गिरोह के पांच सदस्यों को गिरफ्तार किया है। इनके कब्जे से लैपटॉप, ¨प्रटर, स्कैनर बरामद हुए हैं। पुलिस आरोपितों से पूछताछ कर रही है। पकड़े गए लोगों में से दो आरोपित फर्जी-ई रवन्ना तैयार करते थे। जबकि तीन लोग इस फर्जी ई-रवन्ना पर खनन करते पकड़े गए है।

बुग्गावाला क्षेत्र के बंजारेवाला गांव में काफी समय से पुलिस को सूचना मिल रही थी कि कुछ लोग फर्जी ई-रवन्ना से खनन कर रहे हैं। फर्जी ई-रवन्ना पर खनन करने वाले गिरोह की तलाश में पुलिस लगी थी। बुग्गावाला पुलिस को रविवार रात सूचना मिली कि कुछ लोग फर्जी ई- रवन्ना पर खनन करके निकले हैं। इस सूचना पर बुग्गावाला पुलिस ने छापा मारकर तीन ट्रैक्टर टॉली को पकड़ लिया। पुलिस ने इनके रवन्ना की जांच की तो पता चला कि यह रवन्ना फर्जी है। पुलिस तीनों को थाने ले गई। पूछताछ में आरोपितों ने अपने नाम इमरान निवासी लामग्रंट, गय्यूर निवासी तेलीवाला तथा शहजाद निवासी लालवाला बताया। पुलिस ने इनके कब्जे से मिली खनन लदी तीन ट्रैक्टर ट्रॉलियां सीज कर दी। पुलिस ने उनसे पूछताछ की तो इन्होंने बताया कि यह फर्जी ई-रवन्ना उन्होंने बंदरजूड़ निवासी दो युवकों से लिए हैं। इस सूचना पर पुलिस ने बंदरजूड़ गांव में छापा मारकर फर्जी ई-रवन्ना तैयार करने वाले दो आरोपितों को गिरफ्तार कर लिया। दोनों आरोपितों का नाम शहजान है। पुलिस ने इनकी दुकान से एक लैपटॉप, ¨प्रटर, स्कैनर बरामद किया है। थाना प्रभारी नंद किशोर ग्वाड़ी ने बताया कि आरोपित लैपटॉप पर ही फर्जी ई-रवन्ना तैयार करते थे। आरोपितों से पूछताछ की जा रही है। इन सभी के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है।

------------------

दो सौ रुपये में देते थे रवन्ना

कलियर: पुलिस के हत्थे चढ़े आरोपित शहजान और उसका साथी दो सौ रुपये में ही फर्जी ई-रवन्ना देते थे। आरोपित करीब छह माह से इस काम में लगे थे। प्रतिदिन करीब 15 से 20 लोगों को दौ सौ रुपये के हिसाब से फर्जी रवन्ना देते थे। आरोपितों ने छह माह से राजस्व को चूना लगा रहे थे। पुलिस की तरफ से इसकी रिपोर्ट प्रशासन को भी भेजी जा रही है।

------------

मास्टर माइंड का नाम भी एक और काम भी एक

कलियर: फर्जी ई रवन्ना तैयार करने वाले दोनों आरोपितों का नाम भी एक है और काम भी एक है। दोनों आरोपित शहजान की बंदरजुड़ गांव में मोबाइल रिपेय¨रग करने की अलग-अलग दुकान है। पुलिस ने दोनों से पूछताछ कर रही है। दोनों के संपर्क में रहने वाले अन्य लोगों के बारे में भी पुलिस जानकारी जुटा रही है।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप