संवाद सहयोगी, हरिद्वार: जंगलों से निकल खेतों में पहुंचकर हाथी किसानों की फसलों को बर्बाद कर रहे हैं। पिछले कई दिन से ऐसा लगातार हो रहा है। जिससे किसानों का बड़ा नुकसान हो रहा है।

बिशनपुर, कुंडी, कटारपुर, मिस्सरपुर, जियापोता और पंजनहेड़ी गांव गंगा तट के नजदीक हैं। इन गांवों के किसानों ने अपने खेतों में धान व गन्ने की फसल की बुआई कर रखी है। धान और गन्ने की फसल इस वक्त पकने लगी है। इन दिनों दोनों फसलों को हाथियों ने अपना निशाना बना रखा है। आए दिन रात के समय जंगलों से निकलकर हाथियों के झुंड किसानों के खेतों में धमक रहे हैं। जो खेतों में खड़ी धान की फसल की बालियों को खाने के साथ ही रौंद रहे भी हैं। इसी तरह हाथी गन्ने की फसलों को भी खाने के साथ ही तोड़ रहे हैं। सुबह अपने खेतों में जाकर हाथियों की ओर से तोड़ी गई फसलों को देखकर किसानों के माथे पर पसीने चल रहे हैं। बिशनपुर के ग्राम प्रधान सुखदेव, कटारपुर के प्रधान नूतन और मिस्सरपुर के र¨वद्र सैनी ने बताया कि हाथियों से किसानों की फसलें चौपट हो जा रही हैं, हाथियों की रोकथाम के लिए वन विभाग को ठोस कदम उठाने चाहिए। उधर, वन विभाग के रेंजर दिनेश मोहन नौडियाल का कहना है कि हाथियों को रोकने के लिए गठित टीम को सक्रिय होने के लिए कह दिया गया है।

Posted By: Jagran