जागरण संवाददाता, रुड़की: भाजपा के झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल ने नगर निगम सभागार में भारत रत्न डॉ. भीमराव आंबेडकर की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में जब केंद्र की प्रशंसा की तो समाज के लोगों ने उनकी बात का विरोध किया। समाज के लोगों ने कहा कि यह डा. आंबेडकर की जयंती पर आयोजित कार्यक्रम है। इसलिए इसमें राजनीति की कोई बात न की जाए। इस दौरान विधायक और समाज के लोगों के बीच कुछ देर तक गहमागहमी भी हुई।

डॉ. भीमराव अंबेडकर समाज कल्याण समिति की ओर से रविवार को नगर निगम सभागार में भारत के संविधान निर्माता डा. भीमराव आंबेडकर की 128वीं जयंती के अवसर पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य अतिथि के रूप में झबरेड़ा विधायक देशराज कर्णवाल उपस्थित रहे। बतौर मुख्य अतिथि विधायक कर्णवाल ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री डा. आंबेडकर का सपना पूरा कर रहे हैं। 2015 से डॉ. आंबेडकर की ओर से संविधान में दिए गए अधिकारों एवं एससी-एसटी एक्ट को मजबूती मिलने के साथ ही कानून भी बनाया गया है। विधायक की इस बात पर दर्शक दीर्घा में और मंच पर बैठे समाज के कुछ लोग भड़क गए। अपनी सीट पर खड़े होकर उन्होंने कहा कि यह डा. आंबेडकर की जयंती में मौके पर आयोजित कार्यक्रम है। इसलिए इसमें कोई राजनीतिक बातें नहीं होनी चाहिए। इसके बाद भी विधायक कर्णवाल मंच से अपनी बात रखते रहे। इस पर समाज के लोग आक्रोशित हो गए। कुछ देर तक इस बात को लेकर गहमागहमी होती रही। कुछ लोग मंच पर विधायक को बोलने से रोकने के लिए भी चले गए। कार्यक्रम में उपस्थित भाजपा के नगर विधायक प्रदीप बत्रा और कांग्रेस की भगवानपुर विधायक ममता राकेश ने बाबा साहब आंबेडकर के पद्चिह्नों पर चलने का आह्वान किया। इस मौके पर पूर्व सांसद हरपाल साथी, पूर्व विधायक चंद्रशेखर, राम सिंह सैनी, श्यामवीर सैनी, शोभाराम प्रजापति, सुरेंद्र सिंह उपस्थित रहे।

--------

विधायक कर्णवाल बाइक से पहुंचे कार्यक्रम में

रुड़की: विधायक देशराज कर्णवाल ने कहा कि रविवार को उन्हें कई कार्यक्रमों में शिरकत करनी थी। इसलिए वे अपने आवास से बाइक पर सवार होकर नहर किनारे होते हुए नगर निगम में आयोजित कार्यक्रम में पहुंचे। उन्होंने कहा कि कुछ मीडियाकर्मियों ने उनसे पूछा कि आप बिना सुरक्षा के ही बाइक पर जा रहे हैं तो उन्होंने कहा कि आज संविधान निर्माता की जयंती का दिन है और देश के नागरिकों के लिए संविधान से बड़ी सुरक्षा कोई और नहीं हो सकती है।

Posted By: Jagran