हरिद्वार, [जेएनएन]: मातृसदन ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी के खिलाफ प्रथम अपर सिविल जज की अदालत में मानहानि का वाद दायर किया है। मातृसदन का आरोप है कि श्रीमहंत के बयान से मातृसदन के संतों की मानहानि हुई है। मामले में सुनवाई 24 मार्च को होगी। 

पिछले दिनों मातृसदन के परमाध्यक्ष स्वामी शिवानंद व ब्रह्मचारी आत्मबोधानंद ने गंगा में खनन पर प्रतिबंध की मांग करते हुए अनशन किया था। इसी दौरान अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी हरिद्वार पहुंचे और एक बयान जारी कर गंगा में खनन की पैरवी की थी।

मातृसदन के ब्रह्मचारी दयानंद का आरोप है कि श्रीमहंत ने खनन माफिया के प्रभाव में आकर ऐसा किया। उन्होंने आरोप लगाया कि ऐसा बयान देकर श्रीमहंत ने उनके ब्रह्मलीन गुरु भाई ब्रह्मचारी निगमानंद की शहादत का अपमान किया है। 

दूसरी ओर अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष श्रीमहंत नरेंद्र गिरी का कहना है कि उन्हें इस बारे में जानकारी नहीं है। उन्होंने कहा कि अभी तक कोई नोटिस नहीं मिला, नोटिस मिला तो जवाब दिया जाएगा। 

यह भी पढ़ें: हरिद्वार महाकुंभ के लिए अखाड़ों को संवारेंगे संत और महंत

यह भी पढ़ें: राम जन्म भूमि मंदिर के मामले में हस्तक्षेप ना करें श्रीश्री रविशंकर

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड राज्य आंदोलनकारियों को आरक्षण असंवैधानिक: हाईकोर्ट 

By Bhanu