संवाद सूत्र, लक्सर: कनखल में ¨सहद्वार पुल के पास गंगनहर से मिले विवाहिता के शव के मामले में मायके वालों ने ससुरालियों पर हत्या का आरोप लगाया है। मायके वालों ने ससुरालियों के खिलाफ तहरीर देते हुए आरोप लगाया कि ससुराल वाले शादी के बाद से उनकी बेटी को दहेज के लिए प्रताड़ित कर रहे थे। विवाहिता सात माह की गर्भवती थी। पुलिस ने मामले की जांच शुरू कर दी है।

बहादराबाद थाना क्षेत्र के सलेमपुर महदूद गांव निवासी पलटूराम की पुत्री प्रियंका की शादी 22 फरवरी 2014 को लक्सर कोतवाली के सुल्तानपुर गांव में हुई थी। 10 सितंबर को विवाहिता अपनी ससुराल से संदिग्ध परिस्थितियों में लापता हो गई। परिजनों ने उसकी तलाश की। इस बीच 11 सितंबर को उसका शव कनखल थाना क्षेत्र में गंगनहर से बरामद हुआ। पुलिस ने शिनाख्त कराते हुए मायके वालों को सूचना दी। बुधवार को मायके वाले और सलेमपुर के ग्रामीण लक्सर कोतवाली पहुंचे। उन्होंने विवाहिता के पति व ससुराल वालों पर उसकी हत्या करने का आरोप लगाते हुए कोतवाली में हंगामा किया। पुलिस ने परिजनों को समझा बुझाकर शांत कराया।

मृतका के भाई पोपीन कुमार ने पुलिस को दी तहरीर देकर बताया कि शादी के कुछ समय बाद ही उसकी बहन को पति व सास-ससुर दहेज की मांग को लेकर प्रताड़ित करने लगे थे। उन्होंने पुलिस से शिकायत भी की थी, जिसके बाद समझौता करा दिया गया था। लेकिन उसके पति व ससुराल वालों का व्यवहार नहीं बदला। इस दौरान उसके दो बच्चे हुए और फिलहाल भी वह सात माह की गर्भवती थी। पोपीन ने विवाहिता के पति व सास ससुर पर उसकी हत्या करने का आरोप लगाते हुए कार्रवाई की मांग की। कोतवाल अमरचंद शर्मा ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। मामले की जांच की जा रही है। मृतका के पति व सास ससुर से भी पूछताछ की जाएगी।

अनजान शख्स ने दी मायके वालों को सूचना

पोपीन के अनुसार 10 सितंबर को उसे एक फोन आया था, जिसमें फोनकर्ता ने उसकी बहन के गायब होने की जानकारी दी। इसके बाद वह लोग उसकी ससुराल आए, लेकिन ससुराल वालों ने गोल-मोल जवाब दिया। उसने अपने बहनोई को फोन किया तो उसने पहले हरिद्वार फिर लक्सर होने की बात कही। उन्होंने पुलिस को सूचना देने को कहा, लेकिन उसके ससुराल वाले पुलिस के पास नहीं गए।

Posted By: Jagran