संवाद सूत्र, कलियर: तीन माह के इंतजार के बाद वक्फ बोर्ड ने दरगाह पिरान कलियर में जियारत की अनुमति दे दी है। गुरुवार सुबह छह बजे से दरगाह के दरवाजे जियारत के लिए खोल दिए गए। वहीं दरगाह खुलने से जायरीन व दुकानदार खुश हैं।

कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर के चलते दरगाह पिरान कलियर को बंद कर दिया गया था। लंबे समय से दरगाह को खोले जाने की मांग की जा रही थी। कलियर विधायक फुरकान अहमद भी कोविड गाइडलाइन का पालन करते हुए दरगाह को जियारत के लिए खोलने की मांग कर रहे थे। गुरुवार को वक्फ बोर्ड के सीइओ डा. अहमद इकबाल ने दरगाह को खोलने के निर्देश दिए। साथ ही, हिदायत दी कि इस दौरान कोरोना गाइडलाइन का पूरी तरह से पालन किया जाए। साथ ही, उल्लंघन होने पर कार्रवाई की जाएगी। इसके बाद गुरुवार को दरगाह प्रबंधन ने सुबह छह बजे दरगाह के गेट जियारत के लिए खोल दिए। उधर, इस दौरान कोरोना से बचाव के नियमों का जमकर उल्लंघन हुआ। जायरीन बिना मास्क के जियारत करने दरगाह पहुंचे। कार्यवाहक दरगाह प्रबंधक शफीक अहमद ने बताया कि दूसरे राज्यों से जो भी जायरीन कलियर आएंगे, उन्हें सीमा पर 72 घंटे पूर्व की कोरोना रिपोर्ट दिखनी होगी।

दरगाह के गेट खुलने की खबर मिलते ही दुकानदार से लेकर जायरीन में खुशी की लहर है। माना जा रहा है कि जुमेरात होने की वजह से आज कलियर में अन्य दिनों की तुलना में भीड़ भाड़ रहेगी। हालांकि, बॉर्डर पर शक्ति के चलते बाहर से जायरीनों के कम संख्या में ही आने की उम्मीद है। कावड़ मेला समाप्ति के बाद ही यहां पर अन्य राज्यों की भीड़ बढ़ने की संभावना है।

यह भी पढ़ें:-जानिए- चातुर्मास में क्यों आवश्यक है खानपान और दिनचर्या में अनुशासन

Edited By: Sunil Negi