जागरण संवाददाता, हरिद्वार: अनियोजित विकास ने शहर की सूरत बिगाड़ दी है। आए दिन निर्माण कार्यों के नाम पर सड़कें खोद दी जाती हैं, लेकिन महीनों उसे दुरुस्त नहीं किया जाता। टूटी सड़कें जहां दर्द दे रही है वहीं गहरे गड्ढे जानलेवा साबित हो रहे हैं।

अमृत योजना, भूमिगत विद्युत लाइन समेत विभिन्न योजनाओं से चल रहे निर्माण कार्यों के चलते सड़कें जगह-जगह खोदी गईं, लेकिन उसे भलीभांति नहीं भरा गया। अब भी कई जगह सड़कें खुदी हैं। इतना ही नहीं सालों से मरम्मत न होने से उपनगर कनखल क्षेत्र की तमाम सड़कें खस्ताहाल है। कृष्णा नगर, भैरो मंदिर रोड, सतीकुंड के आसपास, गौतम फार्म रोड आदि जगहों पर सड़कों की स्थिति बद से बदतर है। ज्वालापुर ऊंचे पुल के साथ ही मंडी के आसपास इलाकों में टूटी सड़कों के चलते जाम की समस्या उत्पन्न हो रही है। ज्वालापुर के कड़च्छ मार्ग की हालत भी खस्ता है। शास्त्री नगर से लेकर अंबेडकर चौक तक भी सड़क का बुरा हाल है। बरसात के कारण सड़क काफी बेकार हो चुकी है। कड़च्छ निवासी तीर्थ पाल रवि और शिवपाल का कहना है। कड़च्छ मार्ग का निर्माण ना होना दुर्भाग्यपूर्ण है। क्षेत्र के लोग काफी समय से सड़क निर्माण की मांग करते चले आ रहे हैं, लेकिन कोई ध्यान नहीं दे रहा है। त्योहारी सीजन में भी कोई कार्रवाई नहीं हो पा रही है। स्थानीय लोगों में रोष बना है। व्यापारियों को भी इससे आर्थिक नुकसान उठाना पड़ रहा है।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस