संवाद सहयोगी, हरिद्वार: रोड़ी बेलवाला में स्थापित बौद्ध विहार एवं बुद्ध की प्रतिमा तोड़े जाने के विरोध में दलित एकता मंच के कार्यकर्ताओं ने भगत ¨सह चौक से देवपुरा चौक तक पैदल मार्च निकाला। पैदल मार्च के बाद बौद्ध विहार व बुद्ध प्रतिमा तोड़े जाने के जिम्मेदार अधिकारियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर राज्यपाल को ज्ञापन भी प्रेषित किया।

संगठन के महामंत्री तीर्थपाल रवि ने बताया कि रोड़ी बेलवाला में प्राचीन समय से बुद्ध विहार एवं गौतम बुद्ध की प्राचीन प्रतिमा स्थापित थी। बौद्ध विहार व गौतम बुद्ध की प्रतिमा जनपद के बौद्ध एवं दलितों की आस्था की केंद्र है। बौद्ध पर्वों पर बौद्ध के प्रति आस्था प्रकट करने के लिए बड़ी संख्या में बौद्ध एवं दलित वहां इकट्ठा होते हैं। जिला पंचायत सदस्य रोशनलाल व सीपी ¨सह ने बताया कि दो सितंबर को जिला प्रशासन की ओर से चलाए गए अतिक्रमण हटाओ अभियान के दौरान बौद्ध विहार व बौद्ध प्रतिमा को भी तोड़ दिया गया, जिससे बौद्धिस्ट एवं दलित समाज में रोष व्याप्त है। संदीप गौड़ एवं डॉ. दिनेश पुंडीर ने कहा कि अतिक्रमण के नाम पर बौद्ध विहार व बुद्ध प्रतिमा को तोड़कर प्रशासन ने दलित समाज की भावनाओं को आहत करने का काम किया है। दलित महापुरुषों का अपमान बर्दाश्त नहीं किया जाएगा। चेतावनी देते हुए कहा कि यदि जल्द से जल्द बौद्ध विहार एवं महात्मा बुद्ध की प्रतिमा दोबारा स्थापित नहीं की गई, तो बड़ा आंदोलन किया जाएगा। इस मौके पर सुशील कुमार, भानपाल ¨सह रवि, शिवपाल ¨सह, मनोज जाटव, राजकुमार, गौतम असवाज, ब्रजपाल, अशोक कुमार काटी आदि मौजूद रहे।

Posted By: Jagran