हरिद्वार, जेएनएन। भले ही कोरोनिल टैबलेट के क्लीनिकल ट्रायल को लेकर नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंसेज यूनिवर्सिटी (निम्स) जयपुर के चांसलर ने यू टर्न ले लिया हो, लेकिन पतंजलि अपने दावे पर कायम है। पतंजलि योगपीठ के महामंत्री आचार्य बाल कृष्ण ने दावा किया है कि निम्स में ही औषधियों का क्लीनिकल परीक्षण हुआ है। उन्होंने मीडिया को बयान जारी कर बताया कि निम्स जयपुर में कोरोना पॉजिटिव मरीजों पर श्वसारि वटी और अणु तेल के साथ अश्वगंधा, गिलोय घनवटी और तुलसी घनवटी के घनसत्वों से निर्मित औषधियों का निर्धारित मात्रा में सफल क्लीनिकल परीक्षण किया। इतना ही नहीं औषधि प्रयोग के परिणामों को 23 जून को सार्वजनिक भी किया गया।

आचार्य बालकृष्ण ने बताया कि पतंजलि ने रोगियों के बेहतर अनुपालन के लिए इन तीन मुख्य जड़ी बूटियों अश्वगंधा, गिलोय, तुलसी के घनसत्वों के संतुलित मिश्रण वाली इस कोरोनिल औषधि का विधिसम्मत पंजीयन कराया। पतंजलि ने कोरोना के लिए क्लीनिकल कंट्रोल ट्रायल पूर्ण होने से पहले क्लोरीनिल टैबलेट को क्लीनिकली और लीगली कोरोना की दवा कभी भी नहीं कहा।

इस क्लीनिकल ट्रायल रजिस्ट्री आफ इंडिया (सीटीआरआइ) के विषय में विवाद की किसी भी तरह की कोई गुंजाइश नहीं है। उन्होंने कहा कि हमें संपूर्ण मानवता को इस कोरोना संकट से बाहर निकालने में संगठित रूप से सदभावनायुक्त मदद करने के लिए आगे आना चाहिए। 

यह भी पढ़ें: पंतजलि को लाइसेंस इम्यूनिटी बूस्टर का, दावा कोरोना के इलाज का; आयुर्वेद विभाग ने भेजा नोटिस

दरअसल, जयपुर की निम्स में कोरोना पीडि़तों पर दवा का ट्रायल करने का योगगुरु ने जो दावा किया था, उसी यूनिवर्सिटी के चांलसर डॉ. बीएस तोमर ने गुरुवार रात कहा था कि उनके अस्पताल में किसी दवा का ट्रायल नहीं हुआ था। उन्होंने इम्युनिटी बूस्टर के रूप में अश्वगंधा, गिलोय और तुलसी का प्रयोग किया था। यह केवल इम्यूनिटी बढ़ाने के लिए था, कोई इलाज की दवा नहीं थी। निम्स का बाबा रामदेव के साथ दवा बनाने में कोई सहयोग नहीं था

यह भी पढ़ें: उत्तराखंड में इन तीन जिलों को कोरोना से लड़ने के लिए साढ़े सात करोड़ मंजूर, जानिए

Posted By: Raksha Panthari

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस