संवाद सहयोगी, रुड़की : एसीएमओ हरिद्वार रविवार को टीम के साथ पनियाला गांव पहुंचे। एसीएमओ के आने की खबर सुनते ही गांव के झोलाछाप अपनी दुकानें बंद कर फरार हो गए। वहीं एक क्लीनिक खुला मिला, एसीएमओ ने क्लीनिक संचालक को मेडिकल की डिग्री एवं अन्य दस्तावेजों के साथ तलब किया है। सोमवार को बुखार पीड़ितों के लिए पीएचसी में शिविर लगाकर मरीजों के रक्त की जांच कराए जाने की बात कही है।

पनियाला गांव में बीते शनिवार को लुकमान नाम के एक युवक की डेंगू से मौत हो गई थी। युवक का उपचार मेरठ के एक अस्पताल में चल रहा था। युवक की शादी होने वाली थी। सीएमओ डॉ. सरोज नैथानी के निर्देश पर रविवार शाम को एसीएमओ डॉ. अजय कुमार टीम के साथ पनियाला गांव पहुंचे। एसीएमओ के गांव में आने भनक जैसे ही झोलाछापों को लगी तो वह अपनी दुकानों को बंद कर फरार हो गए। एसीएमओ ने दो झोलाछाप को चिन्हित कर लिया है। एसीएमओ ने बताया कि वह उस युवक लुकमान के घर भी गए। बीमारी से संबंधित उसके कागजात भी देखे। आशंका है कि युवक की मौत डेंगू से ही हुई है। एसीएमओ ने बताया कि उन्होंने टीम के साथ कई घरों में जाकर ग्रामीणों को जागरूक भी किया। साथ ही एक घर में डेंगू के लार्वा को नष्ट भी कराया गया। उन्होंने बताया कि सोमवार को पनियाला गांव के पीएचसी में एक शिविर लगाया जाएगा। जिसमें बुखार पीड़ितों के स्वास्थ्य की जांच की जाएगी। साथ ही उन्हें दवाएं दी जाएंगी। इसके अलावा उनके खून के सैंपल भी लिए जाएंगे।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप