हरिद्वार, [जेएनएन]: गंगा रक्षा के लिए बीते 82 दिन से अनशनरत स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद को मनाने नेशनल मिशन फॉर क्लीन गंगा (एनएमसीजी) के निदेशक जनरल राजीव रंजन के नेतृत्व में केंद्रीय टीम मंगलवार शाम जगजीतपुर स्थित मातृसदन पहुंची। टीम ने करीब डेढ़ घंटे स्वामी सानंद से उनकी मांगों पर चर्चा की और सरकार की गंभीरता से भी उन्हें अवगत कराया। टीम ने उन्हें द नेशनल रिवर गंगा रिजुवेनेशन प्रोटेक्शन एंड मैनेजमेंट बिल-2018 की प्रति सौंपकर उनकी प्रतिक्रिया जाननी चाही। साथ ही स्वामी सानंद के गिरते स्वास्थ्य को देखते हुए उनसे अनशन खत्म करने का अनुरोध भी किया। हालांकि, स्वामी सानंद मांगें पूरी होने तक अनशन जारी रखने की बात पर अड़े रहे।

मनेरी भाला और लोहारी नागपाला जैसी जल-विद्युत परियोजनाओं के विरोध में अनशन कर चुके स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद गंगा व सहायक नदियों पर निर्माणाधीन और प्रस्तावित जल-विद्युत परियोजनाओं को तुरंत निरस्त करने, गंगा के लिए तैयार किए गए 2012 के ड्राफ्ट को एक्ट में तब्दील करने समेत चार-सूत्रीय मांगों को लेकर बीते 22 जून से अनशनरत हैं। गत नौ सितंबर को उन्होंने प्रेस वार्ता कर एक माह में मांगें पूरी न होने की दशा में दस अक्टूबर से जल भी त्यागने की बात कही थी। 

स्वामी सानंद की इस घोषणा के बाद मंगलवार को एनएमसीजी के निदेशक जनरल राजीव रंजन के नेतृत्व में केंद्रीय टीम मातृसदन पहुंची। टीम ने सानंद से कई बिंदुओं पर चर्चा की और गंगा संरक्षण को लेकर सरकार के प्रयासों से भी उन्हें अवगत कराया। टीम ने उन्हें पिछले दिनों सदन में पेश किए गए ड्राफ्ट-2018 की प्रति सौंप इस पर उनकी प्रतिक्रिया जाननी चाही। स्वामी सानंद ने ड्राफ्ट के अध्ययन के बाद ही कोई प्रतिक्रिया देने की बात कही। साथ ही कहा कि वे अपनी मांगों पर अडिग हैं।

टीम बुधवार को उनकी प्रतिक्रिया जानने के लिए दोबारा आने का आश्वासन देकर लौट गई। टीम में केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी की निजी सचिव हरिता, अपर निदेशक एसपीएमजी (स्टेट प्रोजेक्ट मॉनीटरिंग ग्रुप) डॉ. राघव लंगर, सिटी मजिस्ट्रेट मनीष कुमार सिंह आदि शामिल हैं।

यह भी पढ़ें: स्वामी सानंद ने एकबार फिर पीएम मोदी को लिखा पत्र, जानिए

यह भी पढ़ें: स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद के प्राण रक्षा को बापू से करेंगे प्रार्थना

यह भी पढ़ें: मालवीय कमेटी का ड्राफ्ट पास होने पर तोडूंगा अनशन: स्वामी ज्ञानस्वरूप सानंद

Posted By: Raksha Panthari