रुड़की, जेएनएन। भीम आर्मी के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि प्रदेश की भाजपा सरकार सत्ता का दुरुपयोग कर रही है। पंचायत चुनाव में जिस तरह से भाजपा सरकार ने धांधली कराकर अपने प्रत्याशी जिताएं हैं, उसे बर्दाश्त नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि इसके खिलाफ 21 अक्टूबर को हरिद्वार जिला मुख्यालय का घेराव किया जाएगा।

बुधवार को गंगनहर किनारे स्थित एक भवन में भीम आर्मी और आजाद समाज पार्टी (आसपा) के संस्थापक चंद्रशेखर आजाद ने पत्रकार वार्ता करते हुए भाजपा पर आरोप लगाए। उन्होंने कहा कि हरिद्वार जिले में पंचायत चुनावों में धांधली की आवाज उठाने वाले कार्यकर्त्ताओं पर लाठियां भांजी गई और पत्थर फेंके गए। उनकी आवाज दबाने को सरकार ने झूठे मुकदमे दर्ज करा दिए।

'सरकार के इशारे पर काम कर रहा चुनाव आयोग'

उन्होंने आरोप लगाया कि पुलिस कर्मी शराब के नशे में कार्यकर्त्ताओं के घरों में घुसते हैं। भाजपा ने जानबूझकर आसपा प्रत्याशियों को धांधली कराकर हराया है। यह भाजपा की बौखलाहट को दर्शाता है। आरोप लगाया कि पंचायत चुनाव में चुनाव आयोग ने सरकार के इशारे पर ही काम किया है। टिकोला कला, सलेमपुर प्रथम, मुंडलाना, सिरचन्दी समेत अन्य सीटों पर आजाद समाज पार्टी के प्रत्याशी जीत रहे थे, लेकिन उनको हरा दिया गया है।

कार्यकर्ताओं पर लाठीचार्ज का लगाया आरोप

चंद्रशेखर आजाद ने कहा कि मंगलौर गुड़ मंडी में जब आजाद समाज पार्टी के कार्यकर्त्ताओं ने इसका विरोध किया तो उनके ऊपर लाठीचार्ज किया गया। जिसमें कई कार्यकर्त्ता घायल हुए। माहौल खराब करने के लिए वहां पर भाजपा के कार्यकर्त्ताओं ने पथराव किया और आरोप आसपा कार्यकर्त्ताओं पर लगाया। उन्होंने कहा कि उन लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया जो मौके पर मौजूद भी नहीं थे। बेकसूर लोगों के वाहनों को तोड़ दिया गया। संगीन धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया।

21 अक्टूबर को सरकार करेंगे घेराव

आरोप लगाया कि निर्दोष लोगों को जाति पूछ कर गिरफ्तार किया जा रहा है। भाजपा सरकार के इशारे पर चुन-चुनकर आसपा और भीम आर्मी पदाधिकारी व कार्यकर्त्ताओं पर कार्रवाई की जा रही है। आयोग को दोबारा मतगणना करानी चाहिए। बेकसूर लोगों पर दर्ज किए गए मुकदमों को वापस लिया जाए। उन्होंने कहा कि पंचायत चुनाव में वोटों की डकैती और झूठे मुकदमों के खिलाफ 21 अक्टूबर को वह अपने समर्थकों के साथ हरिद्वार जिला मुख्यालय का घेराव करेंगे।

सरकार ने जो तानाशाही की है उसे जनता के सामने रखा जाएगा। कार्यकर्त्ता गांव-गांव जाकर लोगों को इस धांधली के बारे में बताएंगे। उन्होंने कहा कि अगर यह मामला न्यायालय जाएगा तो सरकार के इशारे पर काम करने वाले अधिकारी फसेंगे। उन्होंने कहा कि जरूरत पड़ी तो वह सामूहिक गिरफ्तारी भी देंगे।

Edited By: Deepak mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट