जागरण संवाददाता, हरिद्वार: गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय के योग विभाग में बुधवार को भारत विकास परिषद पंचपुरी शाखा ने कोरोना वारियर्स सम्मान समारोह में कोरोना वारियर को सम्मानित किया गया।

इस मौके पर एआरटीओ मनीष तिवारी ने कहा कि हमें जीवन में मानवीय संस्कारों के साथ आगे बढ़कर दूसरों के काम आना चाहिए। इस दिशा में कोरोना काल के दौरान भारत विकास परिषद पंचपुरी शाखा ने आगे आकर समाज के जरुरतमंदों को मदद पहुंचाकर मानवीय उदाहरण समाज के सामने प्रस्तुत किया है। विशिष्ट अतिथि कवि डा. हरिओम पंवार ने कहा कि संस्कृत व हिदी भाषा संस्कारों से जोड़ती है, जबकि अंग्रेजी भाषा व्यापार व व्यवसाय के क्षेत्र की भाषा है। जो व्यक्ति मन की आवाज को सुनकर कार्य करता है वह निरंतर समाज सेवा के क्षेत्र में अग्रसर होकर समाज का मार्गदर्शन कर सकता है। भाषा के माध्यम से ही संस्कृति व संस्कारों की रक्षा की जा सकती है। इस दिशा में गुरुकुल कांगड़ी विश्वविद्यालय निरंतर मार्ग प्रशस्त कर रहा है। कुलपति प्रो. रूपकिशोर शास्त्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण काल में जरुरतमंदों को मदद पहुंचाने की दिशा में भारत विकास परिषद के कार्य समाज के लिए प्रेरणा का माध्यम है। कुलसचिव डा. सुनील कुमार ने कहा कि गुरुकुल कांगड़ी ने हमेशा से राष्ट्र निर्माण व समाज निर्माण में महत्वपूर्ण योगदान किया है। प्रो. श्रवण कुमार शर्मा ने अपनी काव्य प्रस्तुति दी। इस मौके पर डा. एलपी पुरोहित डा. हेमवती नंदन, डा. पंकज कौशिक, द्विजेंद्र पंत, रेखा नेगी को कोरोना वारियर्स के रूप में सम्मानित किया गया। कार्यक्रम को प्रो. आरकेएस डागर ने भी संबोधित किया। इस मौके पर योग विभाग की ओर से आयोजित प्रतियोगिता के विजेताओं को भी प्रमाण पत्र वितरित किए गए।

Edited By: Jagran