रुड़की, जेएनएन। सीएम की सभा में अचानक पहुंचे 30 से 40 छात्र-छात्राओं ने सीएम को काले झंडे दिखाते हुए नारेबाजी की। इससे पुलिस अधिकारियों के चेहरे की हवाईयां उड़ गई। पुलिस ने इन सभी को सभा स्थल से करीब एक किमी तक धकेलकर पीछे किया। इस दौरान पुलिस से नोकझोंक और हाथापाई भी हुई। पुलिस ने एक छात्र को हिरासत में लिया। वहीं, कुछ देर बाद एक भाजपा नेता अपनी निजी समस्या का समाधान न होने पर सभा स्थल पर पेट्रोल लेकर आत्मदाह करने पहुंच गया। पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए भाजपा नेता को हिरासत में ले लिया।

सोमवार को नेहरू स्टेडियम में सीएम के कार्यक्रम को लेकर चप्पे-चप्पे पर पुलिस बल की तैनाती की गई थी। सीएम के कार्यक्रम में किसानों का विरोध करने की आशंका को देखते हुए भारी पुलिस बल तैनात किया था। दोपहर करीब 11 बजकर 50 पर करीब 30 से 40 आयुष छात्र छात्रा सभा स्थल पर पहुंचे। इससे पहले की पुलिस कुछ समझ पाती छात्राओं ने सीएम को काले झंडे दिखाए। इसके लिए पुलिस कतई तैयार नहीं थी।

यह देखते ही मंच पर बैठे डीएम, एसएसपी आनन-फानन नीचे उतरे। एसएसपी ने पुलिस के साथ मिलकर इन सभी को सभा स्थल से धकेलना शुरू कर दिया। छात्राओं ने आरोप लगाते हुए कहा कि सरकार हाईकोर्ट के फैसले की भी अनदेखी कर रही है। रविवार को छात्र-छात्राओं ने देहरादून के परेड ग्राउंड में धरना कार्यक्रम में पुलिस पर छात्रों की पिटाई करने और फीस वृद्धि का विरोध कर रहे थे। सीएम और आयुष मंत्री हरक सिंह रावत के खिलाफ नारेबाजी करते रहे।

कार्यक्रम स्थल के बाहर सड़क पर पुलिस और छात्रों के बीच जमकर हाथापाई होती रही। पुलिस ने करीब एक किमी तक छात्राओं को दौड़ाया। करीब 20 मिनट तक यह ड्रामा चलता रहा। इसके बाद सभी छात्र गंगनहर किनारे एक पार्क में धरना देकर बैठ गए। जैसे ही यह मामला शांत हुआ तभी भाजपा मंगलौर के ग्रामीण मंडल महामंत्री और काबीना मंत्री मदन कौशिक के प्रतिनिधि कुलदीप भारद्वाज अपनी एक निजी समस्या का समाधान नहीं होने के विरोध में पेट्रोल की बोतल लेकर आत्मदाह करने सभा स्थल पहुंचे, लेकिन पुलिस ने मुस्तैदी दिखाते हुए 

भाजपा नेता को हिरासत में ले लिया। पुलिस यदि मुस्तैदी ना दिखाती तो बड़ा मामला हो सकता था। गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक राजेश साह ने बताया कि भाजपा नेता कुलदीप साह और आयुष छात्र का शांतिभंग में चालान किया गया है।

बिजली चोरी के मुकदमे से आहत था भाजपा नेता

गंगनहर कोतवाली में पुलिस हिरासत के दौरान भाजपा नेता कुलदीप भारद्वाज ने बताया कि उन्होंने करीब एक माह पहले होटल खोला था। जिसमें बिजली का तार मीटर से कट गया था। वह जनरेटर का इस्तेमाल कर रहे थे। आरोप लगाया कि ऊर्जा निगम के अधिकारी मौके पर आए और उस पर बिजली चोरी का आरोप लगाते हुए मुकदमा दर्ज कराया। इसकी शिकायत उन्होंने सीएम कार्यालय से लेकर सभी मंत्रियों से की थी। इसके बावजूद किसी ने उनकी नहीं सुनी। इस बात से वह आहत थे। 

यह भी पढ़ें: आयुष कॉलेजों के खिलाफ छात्रों का बेमियादी अनशन शुरू, जानिए वजह

काले झंडे दिखाने से पहले ही दो लोग धरे

करीब दो सप्ताह से आजादनगर चौक को खुलवाने की मांग को लेकर आजादनगर चौक के पास धरने पर बैठे हुए लोगों ने सीएम के कार्यक्रम में काले झंडे दिखाने की चेतावनी दी थी। सीएम के कार्यक्रम में काले झंडे दिखाने के लिए जा रहे दीपक लाखवान और नवीन जैन को हिरासत में ले लिया। गंगनहर कोतवाली प्रभारी निरीक्षक राजेश साह ने बताया कि इनका शांतिभंग में चालान किया है।

यह भी पढ़ें: छात्र नेताओं ने विवि प्रशासन के खिलाफ किया प्रदर्शन, जानिए क्या है मांगे

खुफिया विभाग की चूक आई सामने

सीएम के कार्यक्रम को लेकर किसानों और अन्य लोगों के विरोध की बात दिनभर से सामने आ रही थी। इसके बावजूद खुफिया विभाग इस बात को नहीं समझ पाया। देहरादून से आयुष छात्र सभास्थल पर पहुंच गए। यहीं हाल भाजपा नेता के मामले में भी हुआ। पुलिस यदि मुस्तैदी न दिखाती तो बड़ा बवाल हो सकता था।

यह भी पढ़ें: अनशन पर बैठे आयुष छात्रों की पुलिस के साथ हुई तीखी झड़प

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस