जागरण संवाददाता, हरिद्वार। एलोपैथी बनाम आयुर्वेद के विवाद में इन दिनों योग गुरु बाबा रामदेव और उनके सहयोगी आचार्य बालकृष्ण काफी मुखर हैं। दोनों के नित नए बयान इंटरनेट मीडिया पर वायरल हो रहे हैं। मंगलवार को आचार्य बालकृष्ण ने योग गुरु व आयुर्वेद के विरोध को देश में ईसाइयत के फैलाव से जोड़ा तो बाबा रामदेव ने एलोपैथिक चिकित्सक समेत दवा कंपनियों ने 25 सवाल पूछकर विवाद को नई हवा दे दी। वहीं, बुधवार को इंटरनेट मीडिया में वायरल एक अन्य वीडियो में बाबा इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) की उनके खिलाफ कार्रवाई की मांग का उपहास उड़ाते नजर आ रहे हैं। बाबा यहां तक कहते सुनाई दे रहे हैं कि, 'खैर! अरेस्ट तो उनका बाप भी नहीं कर सकता स्वामी रामदेव को।' आइएमए ने एक रोज पहले बाबा रामदेव को एक हजार करोड़ रुपये मानहानि का नोटिस देने के साथ ही 15 दिन में माफी न मांगने पर कानूनी कार्रवाई की मांग की है। 

वीडियो में बाबा रामदेव आइएमए के मानहानि के नोटिस पर प्रतिक्रया देते दिख रहे हैं। बकौल बाबा, 'ट्रेंड चला रहे हैं कि क्विक अरेस्ट स्वामी रामदेव। कभी कुछ चलाते हैं, कभी ठग रामदेव, कभी महाठग रामदेव, कभी गिरफ्तार रामदेव चलाते रहते हैं। चलाने दो।' इसका उपहास उड़ाते हुए वह पतंजलि कार्यकर्ताओं को बधाई दे रहे हैं कि इस कारण अब अपने लोगों को भी ट्रेंड चलाने की प्रैक्टिस हो गई। उधर, इस मामले में तीखी प्रतिक्रिया देते हुए आइएमए हरिद्वार के अध्यक्ष डा. दिनेश सिंह ने कहा कि बाबा का यह बयान सीधे-सीधे कानून का अपमान है, अपराध है। कानून को इसका स्वत: संज्ञान लेते हुए उन पर कड़ी कार्रवाई करनी चाहिए। 

कहा कि बाबा का मकसद एलोपैथी के खिलाफ आम जनता को भड़काकर अपना धंधा बढ़ाना है। जबकि, यह लड़ाई आयुर्वेद और एलोपैथी के बीच नहीं है। हम रामदेव की एलोपैथी के बारे में की गई बदजबानी के खिलाफ हैं, न कि आयुर्वेद के। एलोपैथिक डाक्टरों ने बाबा की तरह कभी नहीं कहा कि वो हर बीमारी का संपूर्ण इलाज कर सकते है। कोई भी पैथी ऐसा दावा नहीं कर सकती। 

विवाद को आचार्य बालकृष्ण ने ईसाइयत से जोड़ा

आयुर्वेद बनाम एलोपैथ को लेकर हो रहे विवाद को योग गुरु बाबा रामदेव के सहयोगी आचार्य बालकृष्ण ने नया मोड़ दे दिया है। आचार्य बालकृष्ण ने ट्वीट कर इसे देश के भीतर चल रहे ईसाई मंतातरण से जोड़ा है। वह चिंता जताते हुए कहते हैं कि देश में ईसाइयत को बढ़ावा देने के साथ ईसाई बनाने की साजिश रची जा रही है। इसी के तहत बाबा रामदेव को निशाना बनाया जा रहा है, योग और आयुर्वेद को बदनाम किया जा रहा है। अगर समय रहते इस मामले में गंभीर कदम नहीं उठाए गए तो यह साजिश सफल हो जाएगी। जो ताकतें ऐसा कर रही हैं, उन्हें रोकना होगा। वह आगे कहते हैं, 'पूरे देश को क्रिश्चियनिटी में कनवर्ट करने के षडयंत्र के तहत योग ऋषि रामदेव को टारगेट कर योग एवं आयुर्वेद को बदनाम किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें-बाबा रामदेव ने एलोपैथी को फिर लिया निशाने पर, IMA और फार्मा कंपनियों को खुला पत्र जारी कर दागे ये 25 सवाल

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi