संवाद सूत्र, भगवानपुर। मंडावर गांव में एक बुजुर्ग दंपती ने कीटनाशक पदार्थ का सेवन कर लिया। अस्पताल में उपचार के दौरान दोनों की मौत हो गई। छह माह पहले इनके बेटे और पुत्रवधु की सड़क हादसे में मौत हो गई थी। बुजुर्ग दंपती की मौत से गांव में मातम छाया है।

भगवानपुर क्षेत्र के मंडावर गांव निवासी समय सिंह (62) भगवानपुर औद्योगिक क्षेत्र स्थित एक फैक्ट्री में सुरक्षाकर्मी थे। गुरुवार की सुबह समय सिंह और उनकी पत्नी सियावती (56) ने कीटनाशक का सेवन कर लिया। घर में मौजूद उनके बड़े बेटे सुधीर को जब इसका पता चला तो आनन फानन में उन्हें रुड़की के सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया। सिविल अस्पताल में देर रात उपचार के दौरान समय सिंह और उनकी पत्नी सियावती की मौत हो गई। स्वजन शव गांव ले आये।

जैसे ही गांव के अन्य ग्रामीणों को बुजुर्ग दंपती की मौत की खबर मिली तो गांव में मातम छा गया। पुलिस ने बताया कि समय सिंह के दो बेटे थे। बड़े बेटे का नाम सुधीर है जो कि एक फैक्ट्री में कर्मचारी है, जबकि छोटे बेटे का नाम अजीत था। अजीत की शादी 30 नंवबर 2020 को नेहा से हुई थी। 22 दिसंबर 2020 को को अजीत अपनी पत्नी के साथ बाइक से उप्र के सहारनपुर जिले में स्थित शाकुंबरी देवी के दर्शन करने जा रहे थे।

रास्ते में सड़क हादसे में अजीत और उसकी पत्नी नेहा की मौत हो गई थी। बेटे और पुत्रवधु की मौत के बाद से बुजुर्ग दंपती गुमशुम रहने लगे थे। पिछले कुछ दिनों से दोनों मानसिक रुप से तनाव में थे। थाना प्रभारी पीडी भट्ट ने बताया कि शव का पोस्टमार्टम कराकर इनके स्वजन को सौंप दिया गया है।

 

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें

Edited By: Sunil Negi