संवाद सूत्र, लक्सर: डौसनी गांव में विद्युत लाइन से ¨चगारी गिरने से एक ग्रामीण की पशुशाला में आग लग गयी। हादसे में पशुशाला में बंधी गाय भी झुलस गई। घटना के लिए ऊर्जा निगम की लापरवाही को जिम्मेदार ठहराते हुए ग्रामीणों ने मौके पर जमकर हंगामा किया। ग्रामीणों ने मुआवजा दिए की मांग की है।

डौसनी गांव निवासी एक ग्रामीण सुंदर लाल ने घर के पास पशुओं को बांधने के लिए पशुशाला बनाई है। पशुशाला की छत छप्पर डालकर तैयार की गई है। बताया गया कि गांव में आबादी क्षेत्र से ऊर्जा निगम की विद्युत लाइन गुजर रही है। यह हाईटेंशन लाइन जर्जर होने के कारण काफी नीचे तक लटकी है। सोमवार को हाईटेंशन लाइन के दो तार आपस में छू गए। दोनों तारों के मिलने से लाइन पर फाल्ट आ गया और चिंगारी पशुशाला पर गिर गई। जिससे यह हादसा हुआ। घटना से नाराज ग्रामीणों ने हादसे के लिए ऊर्जा निगम को जिम्मेदार ठहराते हुए मौके पर जमकर हंगामा किया। आरोप है कि विद्युत तार पिछले लंबे समय से जर्जर होकर नीचे झूल रहे हैं। विभागीय अधिकारियों को कई बार कहने के बावजूद इन तारों को बदला नहीं जा रहा है। ग्रामीणों ने विद्युत तारों को बदले जाने और ग्रामीण को गाय के उपचार व पशुशाला को हुए नुकसान की भरपाई के लिए मुआवजा देने की मांग की है। उधर, इस बाबत ऊर्जा निगम के ईई विवेक गुंसाई ने बताया कि मामला संज्ञान में नहीं है। मामले में जांच कर कार्रवाई की जाएगी।

Posted By: Jagran