जागरण संवाददाता, देहरादून। उत्तराखंड की महिला अंडर-19 टीम ने बीसीसीआइ के घरेलू सत्र में महिला अंडर-19 वनडे टूर्नामेंट के फाइनल में प्रवेश कर इतिहास रच दिया है। यह उपलब्धि टीम ने सेमीफाइनल में गेंदबाज पूजा के पंजे (पांच विकेट) की बदौलत आंध्र प्रदेश को सात विकेट से करारी शिकस्त देकर हासिल की। यह टीम बीसीसीआइ के किसी घरेलू टूर्नामेंट के फाइनल में पहुंचने वाली उत्तराखंड की पहली क्रिकेट टीम बन गई है। अब फाइनल में उत्तराखंड की भिड़ंत 18 अक्टूबर को मध्य प्रदेश से होगी।

उत्तराखंड और आंध्र प्रदेश के बीच सेमीफाइनल मुकाबला शनिवार को जयपुर के सवाई मान सिंह स्टेडियम में खेला गया। पहले बल्लेबाजी करने उतरी आंध्र प्रदेश की टीम उत्तराखंड की कसी हुई गेंदबाजी के सामने टिक नहीं सकी और 47.4 ओवर में सिर्फ 102 रन बनाकर आउट हो गई। आंध्र प्रदेश के लिए पी. पल्लवी ने सर्वाधिक 22, केई दायना ने 19, के. महांतीश्री ने 11 और आयशा सिंह ने 10 रन का योगदान दिया। उत्तराखंड के लिए पूजा ने शानदार गेंदबाजी करते हुए पांच विकेट झटके। साक्षी जोशी ने भी दो विकेट चटकाए।

इसके बाद 103 रन के लक्ष्य को उत्तराखंड की टीम ने 36.1 ओवर में तीन विकेट खोकर हासिल कर लिया। उत्तराखंड के लिए राघवी ने सर्वाधिक 32, नीलम ने नाबाद 31, नंदिनी कश्यप ने 13 व ज्योति गिरी ने नाबाद 12 रन की पारी खेली।

जेईई मेंस में चुनी गई छात्रा ने विद्यालय का नाम किया रोशन

विकासनगर के बाबूगढ़ स्थित द इंडियन पब्लिक स्कूल की छात्रा रिया चौहान पुत्री श्याम सिंह चौहान ने जेईई की मेरिट में 659वां स्थान प्राप्त किया है। छात्रा के इस प्रदर्शन पर विद्यालय प्रशासन ने प्रसन्नता व्यक्त की है। विद्यालय प्रधानाचार्य अनिल वोहरा ने बताया कि विकासनगर निवासी छात्रा के इस प्रदर्शन से विद्यालय में खुशी का वातावरण बना हुआ है। उन्होंने बताया कि इसके पूर्व छात्रा की दो बहनें भी विद्यालय से शिक्षा प्राप्त करके आइआइटी में अध्ययन कर रही हैं। उन्होंने कहा कि छात्रा ने अपने प्रदर्शन से विद्यालय का नाम रोशन किया है। उन्होंने छात्रा और उनके परिजनों को बधाई भी दी।

यह भी पढ़ें- Women Under-19 ODI Trophy: नीलम की अर्द्धशतकीय पारी से सेमीफाइनल में पहुंचा उत्तराखंड

Edited By: Raksha Panthri