देहरादून,  जेएनएन। उत्तराखंड सब एरिया मुख्यालय ने वेटरन्स-डे पर कार्यक्रम आयोजित किया। जिसमें वयोवृद्ध पूर्व सैनिक, वीर नारी एवं युद्ध के दौरान विकलाग हुए पूर्व सैनिकों को सम्मानित किया गया। जिनमें 103 वर्ष के पूर्व सैनिक डीएल खत्री भी शामिल रहे। इस दौरान पूर्व सैनिकों को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं की जानकारी दी गई। वहीं, पूर्व सैनिकों ने भी अपनी कई समस्याएं रखीं।

सोमवार को आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि जीओसी मेजर जनरल भाष्कर कलीता ने किया। उन्होंने पूर्व सैनिकों को शुभकामनाएं देते हुए कहा कि वेटरन्स-डे का मुख्य उद्देश्य पूर्व सैनिकों को सम्मान देना है। उन्होंने कहा कि पूर्व सैनिकों एवं वीर नारियों को किसी भी प्रकार की कोई परेशानी न हो, ऐसा सेना का निरंतर प्रयास रहता है। उन्होंने बताया कि श्रीनगर गढ़वाल में पेंशन अदालत के दौरान 360 समस्याओं का निस्तारण किया गया है।

वहीं, वेटरन्स ब्राच के प्रभारी कर्नल पृथ्वीराज सिंह रावत ने पूर्व सैनिकों को विभिन्न कल्याणकारी योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने बताया कि पिछले एक अंतराल में 59 पूर्व सैनिक व उनकेआश्रितों को नौकरी दी गई है। वहीं, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी रिटायर्ड कर्नल डी कौशिक ने बताया कि नगर निगम क्षेत्र में रह रहे पूर्व सैनिकों को सरकार ने हाउस टैक्स की छूट दी है। 

लेकिन, इसका लाभ लेने के लिए पूर्व सैनिकों को पहले जिला सैनिक कल्याण कार्यालय में रजिस्ट्रेशन अनिवार्य रूप से कराना होगा। तब जाकर उनका हाउस टैक्स माफ होगा। उन्होंने बताया कि पूर्व सैनिकों के लिए समय-समय पर निश्शुल्क प्रशिक्षण शिविर लगाए जाते हैं। उन्होंने बताया कि हाल ही में तीन माह का निश्शुल्क कंप्यूटर कोर्स विभिन्न संस्थाओं से कराया जा रहा है। 

जिसका लाभ पूर्व सैनिक उठा सकते हैं। इस अवसर पर डिप्टी जीओसी एचएस जग्गी, एडम कमाडेंट कर्नल विरेंद्र सिंह, कर्नल आरए रावत, उत्तराखंड पूर्व सैनिक लीग संगठन के अध्यक्ष ब्रिगेडियर आरएस रावत, देहरादून पूर्व सैनिक लीग संगठन के सचिव कैप्टन अशोक लिंबू, संगठन के मीडिया प्रभारी कैप्टन आलम सिंह भंडारी सहित साढ़े तीन सौ से ज्यादा पूर्व सैनिक मौजूद रहे।

सैनिक कल्याण कार्यालय के खुलें ब्रांच 

ऑफिस दूरस्थ क्षेत्र के पूर्व सैनिकों ने कहा कि सैनिक कल्याण कार्यालय के उपकेंद्र खोले जाने चाहिए। जबकि विकलाग पूर्व सैनिकों ने सार्वजनिक स्थलों व सरकारी विभागों में उनके अनुरूप व्यवस्थाएं बनाने की मांग की। इधर, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी रिटायर्ड कर्नल डी कौशिक ने बताया कि विकासनगर में एक ब्रांच ऑफिस खोलने एवं एडिशनल अफसर का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। शासन से मंजूरी मिलते ही इस ओर कार्रवाई की जाएगी।

डीएसपी अकाउंट की दी जानकारी 

उत्तराखंड पूर्व सैनिक लीग संगठन के अध्यक्ष ब्रिगेडियर आरएस रावत ने बताया कि पूर्व सैनिकों के लिए डीएसपी (डिफेंस सैलरी पैकेज) अकाउंट की सुविधा बैंकों में मिल रही है। उन्होंने बताया कि इस खाते में मिनिमम बैलेंस की अनिवार्यता नहीं है। आप डेबिट कार्ड से अनलिमिटेड ट्राजेक्शन कर सकते हैं। इसके अलावा पर्सनल, कार, होम या एजुकेशन लोन पर प्रोसेसिंग फी नहीं लगती है। इसके अलावा पर्सनल एक्सीडेंट इंश्योरेंस, एयर एक्सीडेंट इंश्योरेंस, फ्री चेक बुक, ड्राफ्ट आदि की भी सुविधा मिलती है। इसमें ऑटो मोड की सुविधा भी होती है। जब भी अकाउंट में एक लिमिट से ज्यादा पैसे होते हैं तो रकम ऑटोमैटिकली ई-मोड (मल्टी ऑप्शन डिपोजिट) में चले जाते हैं। जिसमें ब्याज दर अधिक होती है।

कैंट के पूर्व सैनिकों को मिले हाउस टैक्स में छूट 

कैंट क्षेत्र के पूर्व सैनिकों ने नगर निगम की तरह हाउस टैक्स में छूट की मांग की। उन्होंने कहा कि पूर्व सैनिकों की एक बड़ी आबादी कैंट क्षेत्र में रहती है। जिनको छूट से वंचित किया गया है। इधर, जिला सैनिक कल्याण अधिकारी ने कहा कि यह मामला कैंट क्षेत्र का है। कैंट बोर्ड के अधिकारी इस विषय में रक्षा मंत्रालय को पत्र भेज चुके हैं। अनुमति मिलते ही कैंट क्षेत्र में रह रहे पूर्व सैनिकों को भी इसका लाभ मिलने लगेगा।

यह भी पढ़ें: गढ़वाल राइफल्स के गौरवशाली इतिहास की सराहना की

यह भी पढ़ें: गढ़वाल राइफल्स ने 1971 की वीरता को किया याद