जागरण संवाददाता, देहरादून। Uttarakhand Weather Update उत्तराखंड में करीब एक सप्ताह बाद मौसम ने कुछ राहत दी है। अतिवृष्टि, बर्फबारी और आलोवृष्टि के दौर के बाद अब मौसम सामान्य हो गया है। जानमाल के नुकसान से पर्वतीय क्षेत्रों में सहमे लोग कुछ राहत महसूस कर रहे हैं। अगले कुछ दिन प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में आसमान साफ रहने और तेज धूप खिलने के आसार हैं। हालांकि, चमोली, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ में कहीं-कहीं हल्की बारिश होने की भी आशंका है।

उत्तराखंड में मई की शुरुआत से ही मौसम का मिजाज बदला हुआ था। खासकर पहाड़ों में कई दौर की बारिश, बर्फबारी और ओलावृष्टि हुई। अतिवृष्टि के कारण कई जगह भारी नुकसान भी हुआ। जबकि, ओले गिरने से फसलों और फलदार वृक्षों को भी क्षति पहुंची। अब शुक्रवार को प्रदेश के अधिकतर इलाकों में मौसम सामान्य रहा। आसमान में चटख धूप खिली नजर आई। जिससे तापमान में भी कुछ इजाफा हुआ। मौसम विज्ञान केंद्र ने अगले चार दिन मौसम साफ रहने की उम्मीद जताई है। हालांकि, चार पर्वतीय जिलों चमोली, रुद्रप्रयाग, उत्तरकाशी और पिथौरागढ़ में हल्की बारिश और चोटियों पर हल्का हिमपात होने की आशंका जताई है।

प्रमुख शहरों का तापमान

शहर--------अधिकतम----न्यूनतम

देहरादून------33.1--------16.1

मसूरी--------23.0--------08.2

टिहरी--------21.8--------10.0

उत्तरकाशी--26.3-------11.2

हरिद्वार-----33.5--------18.2

जोशीमठ-----21.4--------08.0

पिथौरागढ़---25.5--------09.6

अल्मोड़ा-----26.3--------10.8

मुक्तेश्वर---22.5--------08.2

नैनीताल----19.7--------07.6

चंपावत-----20.6--------08.0

यूएस नगर-33.9------18.8 

------------------------- 

अलकनंदा नदी में समाया डंफर, चालक लापता

बदरीनाथ राष्ट्रीय राजमार्ग पर सुबह तड़के एक डंफर रुद्रप्रयाग शहर से कुछ दूर आगे गोचर की ओर अनियंत्रित होकर अलनंदा नदी में समा गया। इसमें चालक के लापता होने की सूचना है जबकि परिचालक ने कूद कर जान बचा दी। पुलिस की टीम रेस्क्यू कार्य में जुटी है।

रुद्रप्रयाग शहर के पेट्रोल पंप से लगभग दो सौ मीटर आगे एक गोचर की ओर बद्रीनाथ हाइवे पर चारधाम परियोजना में कार्य कर रहा एक डंफर शुक्रवार सुबह लगभग चार बजे अनियंत्रित होकर अलकनंदा नदी में जा गिरा। जिसमें हेल्पर ने किसी तरह कूद मारकर अपनी जान बचा ली जबकि चालक नदी में समा गया। चालक की ढूंढखोज में जल पुलिस जुटी हुई है। 

कोतवाल रुद्रप्रयाग कुंवर सिंह बिष्ट ने एसडीआरएफ डीडीआरएफ फायर सर्विस व जल पुलिस की टीम को सूचना देकर सुबह तड़के ही मौके रेस्क्यू कार्य शुरू किया। लेकिन सुबह अधेंरा होने के कारण बचाव कार्य में दिक्कत आई, अंधेरा छटने पर टीम रस्सी के सहारे अलकनंदा नदी में गई, जहां उन्हें एक मोबाइल मिला, जिससे पता चला कि चालक का नाम बिटटू है, वह नेपाल का रहने वाला है। आरसीसी कंपनी में में यह डंफर कार्य कर रहा था। पुलिस जानकारी जुटा रही है।

यह भी पढ़ें-Uttarakhand Weather Update: उत्तराखंड में तेज बौछारों के साथ आसमानी बिजली गिरने की भी आशंका

Uttarakhand Flood Disaster: चमोली हादसे से संबंधित सभी सामग्री पढ़ने के लिए क्लिक करें