राज्य ब्यूरो, देहरादून। उत्तराखंड में आई आपदा के बाद से मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी लगातार स्थिति पर नजर रख रहे हैं। रविवार से ही वह जिलाधिकारियों से हर घंटे का अपडेट लेते रहे। मंगलवार सुबह भी मुख्यमंत्री धामी ने सचिवालय स्थित राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र में अतिवृष्टि से हुई क्षति की जानकारी ली। दोपहर बाद उन्होंने राज्य के आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे किया। साथ ही ग्राउंड जीरो पर जाकर राहत व बचाव कार्यों का जायजा लिया। 

राज्य में अतिवृष्टि से पिछले दो दिनों में बड़े पैमाने पर जान-मान की क्षति हुई है। मौसम का पूर्वानुमान मिलने के बाद बचाव एवं राहत कार्यों के मद्देनजर रविवार से मुख्यमंत्री ने खुद मोर्चा संभाला हुआ है। नतीजतन, राज्यभर में मशीनरी अलर्ट मोड पर है। बचाव एवं राहत कार्यों के दृष्टिगत सभी जिलों में सरकारी मशीनरी, एसडीआरएफ, पुलिस, सेना, वायुसेना मोर्चा संभाले हुए हैं।

मंगलवार सुबह मुख्यमंत्री धामी सचिवालय स्थित राज्य आपातकालीन परिचालन केंद्र पहुंचे। क्षति की जानकारी लेने के साथ ही उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि बचाव-राहत कार्य युद्धस्तर पर करने के साथ ही आपदा प्रभावितों को तय मानकों के अनुसार सहायता राशि तुरंत उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने सभी जिलाधिकारियों को यह भी निर्देश दिए कि अतिवृष्टि से हुई फसल क्षति का आकलन कर शासन को जल्द रिपोर्ट भेजी जाए, ताकि प्रभावित किसानों को राहत दी जा सके।

मुख्यमंत्री ने चमोली और रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारियों से फोन पर बात कर निर्देश दिए कि यात्रा मार्गों पर फंसे यात्रियों की सुरक्षा का विशेष ध्यान रखा जाए। मुख्यमंत्री ने राज्यवासियों से भी धैर्य बनाए रखने की अपील की। उन्होंने कहा कि आपदा से निबटने के लिए तेजी से प्रयास किए जा रहे हैं।

इसके बाद मुख्यमंत्री आपदा प्रभावित क्षेत्रों के हवाई सर्वे के लिए रवाना हो गए। उनके साथ आपदा प्रबंधन मंत्री डा धन सिंह रावत भी थे। उन्होंने देहरादून से हल्द्वानी के लिए उड़ान भरी, लेकिन दृश्यता कम होने के कारण हेलीकाप्टर लैंड नहीं कर पाया। आपदा प्रभावित क्षेत्रों का हवाई सर्वे करने के बाद मुख्यमंत्री रुद्रप्रयाग पहुंचे और जिलाधिकारी से केदारनाथ समेत जिले की स्थिति की जानकारी ली। फिर मुख्यमंत्री विभिन्न क्षेत्रों का हवाई सर्वे करते हुए वापस देहरादून पहुंचे और शाम को पंतनगर के लिए रवाना हुए। पंतनगर से वह सड़क मार्ग से रुद्रपुर पहुंचे और प्रभावितों से मुलाकात की। फिर वह सड़क मार्ग में आ रही बाधाओं व जोखिम को दरकिनार कर हल्द्वानी पहुंचे और देर रात तक आपदा प्रभावित क्षेत्र में रहे।

मुख्यमंत्री ने रद किया दिल्ली दौरा

मुख्यमंत्री ने राज्य में आई आपदा को देखते हुए अपने दिल्ली दौरे समेत अन्य सभी कार्यक्रम रद कर दिए। उन्हें मंगलवार शाम को दिल्ली जाना था। मुख्यमंत्री पूरा फोकस आपदा के मद्देनजर बचाव एवं राहत कार्यों पर फोकस किए हुए हैं।

यह भी पढ़ें- उत्‍तराखंड में 24 लोगों की मौत, रामनगर के रिजॉर्ट में कोसी नदी का पानी घुसने से सौ लोग फंसे

Edited By: Raksha Panthri